ब्रेकिंग न्यूज़
ब्रेकिंग न्यूज़ राज्य शहर

छठ यात्रियों के लिए स्पेशल ट्रेन-बसें दो दिन और चलेंगी

मुंबई : महापर्व छठ मनाने के बाद पूर्वांचल से लखनऊ, दिल्ली और मुंबई लौटने वाले यात्रियों के लिए रेलवे ने लंबी वेटिंग देखते हुए स्पेशल ट्रेनों के फेरे और रोडवेज ने अतिरिक्त बसों का संचालन दो दिन और बढ़ा दिया है।

रोडवेज प्रशासन ने अतिरिक्त बसें अब दो नवंबर तक चलाने का निर्णय लिया है। अभी तक छठ स्पेशल बसें 31 अक्तूबर तक चलने की घोषणा की गई है। रोडवेज अफसरों के मुताबिक ट्रेनों में वेटिंग देखते हुए पूर्वांचल क्षेत्र के यात्रियों को लखनऊ तक आने और दिल्ली और उत्तराखंड जाने के लिए अतिरिक्त बसें चलेंगी। लखनऊ से बसें आलमबाग बस टर्मिनल, कैसरबाग बस अड्डे से दिल्ली-देहरादून के लिए हर घंटे एसी, साधारण बसों की सेवाएं उपलब्ध रहेंगी।

एक और तीन नवंबर को छठ स्पेशल ट्रेनें

लखनऊ। छठ के बाद वापसी पर यात्रियों भीड़ देखते हुए रेलवे प्रशासन ने दो और छठ स्पेशल ट्रेनों का एक-एक फेरा बढ़ा दिया है। एक नवंबर को ट्रेन नंबर 05781 कटिहार-अमृतसर कटिहार से रात आठ बजे चलकर तीसरे दिन तड़के साढ़े चार बजे अमृतसर पहुंची। दूसरी ट्रेन नंबर 05553 सहरसा-अमृतसर तीन नवंबर को सहरसा से सुबह 9:20 बबजे चलकर दूसरे दिन अमृतसर शाम साढ़े छह बजे पहुंचेगी।

शताब्दी-तेजस में दो से सीटें खाली

शताब्दी एक्सप्रेस की चेयरकार में दो से पांच नवंबर तक सीटें खाली हैं। एग्जीक्यूटिव क्लास में गुरुवार, शुक्रवार और शनिवार को सीटें खाली हैं। तेजस के चेयरकार में दो नवंबर को 236, तीन को 316 चार को 370 पांच को 341 सीटों के अलावा एग्जीक्यूटिव क्लास में दो से छह नवंबर तक सीटें खाली हैं।

लखनऊ से दिल्ली-मुंबई की अधिकांश ट्रेनें फुल

लखनऊ से दिल्ली जाने वाली 31 अक्तूबर को ट्रेनों में सीटें फुल हो गई है। आलम ये है कि लखनऊ से नई दिल्ली एसी एक्सप्रेस में 31 अक्तूबर को और गोरखधाम की स्लीपर में रिग्रेट यानी टिकट मिलना बंद हो गया। इससे दिल्ली जाने वाले यात्रियों की मुसीबतें बढ़ गई है। ऐसे में अब यात्रियों को रोडवेज बसें सहारा बनेंगी। लखनऊ से मुंबई लौटने वाले यात्रियों को वेटिंग से राहत नहीं है। पूरे हफ्ते रूटीन और स्पेशल ट्रेनों में वेटिंग की स्थिति है। इनमें पुष्पक एक्सप्रेस से लेकर गोरखपुर एलटीटी एक्सप्रेस और कुशीनगर की स्लीपर में भी वेटिंग है।

संबंधित पोस्ट

नए गायकों के मार्गदर्शक बन गये हैं अशफ़ाक खोपेकर

Hindustanprahari

विश्वास पर आस की कहानी है ‘द सेंट ऑफ वरेट’ 

Hindustanprahari

टोक्यो ओलंपिक में सुमित नागल सिंगल्स मैच जीतने वाले तीसरे भारतीय बने

Hindustanprahari

विकास धर्म की कीमत पर नहीं हो सकता- महंत नरसिंहानन्द

Hindustanprahari

नंगे पैर चलकर आये पद्मश्री सम्मान लेने 126 साल के स्वामी शिवानंद

Hindustanprahari

अशोक कुमार मिश्र ने पश्चिम रेलवे के महाप्रबंधक का कार्यभार ग्रहण किया

Hindustanprahari