ब्रेकिंग न्यूज़
ब्रेकिंग न्यूज़ मनोरंजन

बड़े पर्दे पर फिल्मों का जादू धूमिल, ओटीटी पर रिलीज करने के लिए मजबूर हुए निर्माता

बॉक्स ऑफिस में आने वाली अधिकांश फिल्में औंधे मुंह गिर रही है। उनकी स्थिति ऐसी है कि अपना लागत भी वसूल नहीं कर पा रही है। हाल ही में रणबीर कपूर की फिल्म ‘शमशेरा’ बुरी तरीके से फ्लॉप रही।
यशराज फिल्म्स की इस फिल्म से सबको बहुत उम्मीदें रही। क्योंकि इस बड़े बैनर की अक्षय कुमार अभिनीत ‘सम्राट पृथ्वीराज’ भी फ्लॉप हो चुकी है। तापसी पन्नू की बायोपिक फिल्म शाबाश मिथु, जॉन अब्राहम की अटैक, जॉन अब्राहम-अर्जुन कपूर की एक विलेन रिटर्न, राजकुमार राव की हिट, राम गोपाल वर्मा की लड़की आदि फिल्में दर्शकों का प्यार पाने के लिए तरस रही है। अनीस बज्मी निर्देशित व कार्तिक आर्यन अभिनीत फिल्म ‘भूल भुलैया 2’ के बाद लगभग अधिकांश फिल्मों ने असफलता ही प्राप्त की। जबकि दक्षिण भारतीय फिल्म आरआरआर, पुष्पा और केजीएफ 2 ने सफलता के सारे रिकॉर्ड तोड़ दिए। शमशेरा के फ्लॉप होने पर संजय दत्त और निर्देशक ने जनता पर निशाना साधा है कि नफरत के कारण फिल्म सफल नहीं रही। बायकॉट बॉलीवुड के ट्रेंड ने बॉलीवुड की फिल्मों की हालत खराब की है। इसी समस्या पर निर्देशक अनुराग कश्यप ने बयान दिया है कि बॉलीवुड अपनी जड़ों से दूर हो गया है। हिंदी फिल्में बनाने वाले अभिनेता स्वयं अंग्रेजी का अनुशरण करते हैं, यही कारण है कि फिल्म सफल नहीं हो रही है। वहीं जनता का कहना है कि हिंदी फिल्म में हिन्दू धर्म का बार बार हो रहे अपमान को अब सहन करना बर्दाश्त के बाहर है। हम हिन्दू अपने ही धर्म का अपमान करने वाली फिल्म आखिर क्यों देखें। बॉलीवुड में फिल्मों की असफलता को देख आमिर खान ने अपनी फिल्म ‘लाल सिंह चड्डा’ को ओटीटी में रिलीज़ करने की घोषणा की लेकिन हाल ही में उन्होंने पीवीआर के साथ नया समझौता कर लिया है। जिसके तहत पीवीआर में केवल लाल सिंह चड्डा का ही शो दिखाया जाएगा इस फैसले से अक्षय कुमार की फ़िल्म रक्षाबंधन को नुकसान हो सकता है। जाह्नवी कपूर की फिल्म ‘गुड लक जेरी’ ओटीटी में रिलीज भी हो चुकी है, साथ ही आलिया की फिल्म डार्लिंग भी ओटीटी में रिलीज़ की जा रही है। फिल्म पर्दे पर ना दिखाकर ओटीटी पर दिखाना समस्या का हल नहीं। जबकि वास्तविकता यह है कि बॉलीवुड फिल्मों में अब अच्छी कहानी, भव्यता और आकर्षण का अभाव है। गाने भी मंत्रमुग्ध करने वाले नहीं रहे। दर्शक एक जैसी फिल्म देख ऊब गए है।

अब वो जमाना नहीं रहा कि अपने चहेते अभिनेता की फिल्म दर्शक हिट करा दे। अब दर्शक को फिल्म की कहानी, अभिनय और फ़िल्मांकन में नयापन और आकर्षण चाहिए यह आकर्षक दक्षिण भारतीय फिल्मों में मौजूद है और बॉलीवुड से समाप्त हो रही है। यदि फिल्मों में वापस नयापन और दर्शकों की पसंद के कंटेंट आएंगे तो वह अवश्य कामयाब होगी।
वैसे साउथ स्टार विजय देवरकोंडा और अनन्या पांडे की अगली फिल्म ‘लाइगर’ का सिने प्रेमियों के बीच जबरदस्त उत्साह बना हुआ है।

– गायत्री साहू

संबंधित पोस्ट

अपनी मेलोडी बॉक्स म्यूजिक कंपनी के अंतर्गत नई प्रतिभाओं का मार्ग प्रशस्त कर रहे हैं अमिताभ रंजन

Hindustanprahari

मुंबई में कोरोना के चलते सील हुई बिल्डिंगों की संख्या हुई 1305

Hindustanprahari

शिल्पा शेट्टी के पति राज कुंद्रा पर लगा पोर्न फिल्म बनाने का आरोप, माता सीता पर भी की किया था भद्दा ट्विट

Hindustanprahari

बढ़ा हुआ यूरिक एसिड दे सकता है कई बीमारियों को न्योता, घर बैठे ऐसे कर सकते हैं कंट्रोल

गोविंदा और स्वप्निल जोशी नम्मा होम्योपैथी की सफलता के जश्न में हुए शामिल

Hindustanprahari

बॉलीवुड के दिग्गजों के बीच लॉन्च हुआ इंडो नेपाली फिल्म ‘प्रेम गीत 3’ का ट्रेलर

Hindustanprahari