ब्रेकिंग न्यूज़
अन्य

अंडे देनेवाला रहस्यमयी स्तनधारी जीव प्लैटिपस

प्लैटिपस एक ऐसा स्तनधारी जानवर है, जो अंडे भी दे सकता है और बच्चों को दूध भी पिला सकता है। जैसा कि हम जानते हैं कि केवल स्तनधारी जीव ही अपने बच्चों को दूध पिला सकते हैं किंतु ये बच्चे देते हैं अंडे नहीं।
प्लैटिपस अन्य जीवों से अलग है, इस अलगाव का खुलासा इनके जीनोम मैप ने किया.
प्लैटिपस के अजीब होने का रहस्य उनकी उद्भव इतिहास में छिपा है.
प्लैटिपस में दुनिया के बहुत से विविध जानवरों के गुण हैं जो उन्हें अजीब बनाते हैं. उनके जीनोम मैप बनने पर पता चला है कि ऐसा क्यों है.

प्लैटिपस ऑस्ट्रेलिया में पाया जाना जीव होता है जिसकी चोंच बतख जैसी होती है. कई लिहाज से अजीब यह स्तनपायी जानवर विलुप्त होने की स्थिति में है. हाल ही में वैज्ञानिकों ने इसका संपूर्ण जीनोम मैप बनाने में सफलता हासिल की है. इसके अध्ययन से शोधकर्ता यह पता लगाने में सफल हुए हैं कि आखिर यह जीव इतना अजीब क्यों है.

प्लैटिपस की सबसे खास बात यह है कि यह उन चुनिंदा जीवों में से है जिनकी प्रजातियों के जीवाश्म आज भी मिलते हैं. इसलिए ये पृथ्वी के सबसे पुराने जीवों में से एक हैं. इनमें 10 सेक्स क्रोमोजोम्स का पाया जाना, जहरीले दांत, चमकीले फर और पसीने में निकलने वाले दूध इनके कुछ अजीब लगने वाले लक्षण हैं. इसके अलावा ये जीव की मादाएं न केवल अंडा देते हैं बल्कि अपने बच्चों को स्तन से दूध भी पिलाती हैं. इसीलिए इन्हें अंडज और स्तनापयी दोनों ही श्रेणियों में रखा जा सकता है.

इनके जीन्स के अध्ययन बताता है कि ये पुरातन और आधुनिक जानवर दोनों हैं और इनमें पक्षियों, सरीसृप और स्तनपायी जीवों का मिश्रण है. इन जानवरों और प्लैटिपस में कई समानता की वजह यही है कि ये पृथ्वी के दूसरे रीढ़धारी जीवों के पूर्वजों से अपनी जीन्स साझा करते हैं.

वैज्ञानिकों को लगता है कि जीनोम इंसानों के उद्भव और विकास की कहानी के रहस्यों का खुलासा कर सकते हैं. साथ ह यह भी बता सकते हैं कि कैसे स्तनपायी जीवन अंडे देने की जगह सीधे संतान पैदा करने लगे. केपनहेगन यूनिवर्सिटी के इवोल्यूशनरी बायोलॉजिस्ट ग्योजी झांग बताते हैं कि संपूर्ण जीनोम ने हमें उन सवालों के जवाब दिए हैं जिनसे पता चलता है कि कैसे प्लैटिपस में कुछ अजीब विशेषताएं आ गईं.

झांग का मानना है कि जीनोम की पड़ताल प्लैटिपस के लिए बहुत अहम है क्योंकि इससे इंसान सहित स्तनपायी जीवों के उद्भव के बारे में समझ को बेहतर हो सकती है. इससे पहले मादा प्लैटिपस की जीनोम सीक्वेंसिंग की गई थी, लेकिव उसमें वाय क्रोमोजोम सीक्वेंस को शामिल नहीं किया गया था इससे बहुत सारी जानकारी मिल नहीं सकी थी. अब शोधकर्ताओं ने नर प्लैटिपस को शामिल कर नया मैप बनाया है और बहुत सटीक प्लैटिपस जीनोम बनाया है.

प्लैटिपस पक्षी की तरह अंडे देते हैं और स्तनपायी जीवों की तरह अपने बच्चों को दूध भी पिलाती हैं.

नेचर में प्रकाशित इस अध्ययन के मुताबिक प्लैटिपस के जीनोम उनके बारे में काफी जानकारी स्पष्ट कर सका है. इसके मुताबिक प्लैटिपस और कांटों वाले इचिड्ना दोनों के ही 5.7 करोड़ साल पहले एक पूर्वज हुआ करते थे. ये सभी स्तनपायी मोनोट्रेम्स की श्रेणी में आते हैं. जो मार्सूपियल्स और यूथेरियन स्तनपायी जीवों से18.7 करोड़ साल पहले अलग हुए थे.

शोधकर्ताओं ने इस प्लैटिपस के सेक्स क्रोमोजोम्स की खास पड़ताल की. उनमें 5X और 5Y क्रोमोजोम रिंग में होते हैं. दूसरे स्तनपायी जीवों के क्रोमोजोम्स से तुलना करने पर शोधकर्ताओं ने पाया कि उनके क्रोमोजोम की समानता पक्षियों से ज्यादा है स्तनपायी जीवों से कम है. इसी लिए पक्षियों की तरह अंडे देते हैं. लेकिन उनके जीन्स में दूध देने वाले जीन्स भी पाए गए.

 

संबंधित पोस्ट

Update Aadhaar Address Online: जानिए किस तरह घर बैठे आधार कार्ड में ऑनलाइन अपडेट किया जा सकता है पता

LPG बुकिंग पर पा सकते हैं 500 रुपये का Cashback, आज है आखिरी मौका

Man tests positive for coronavirus in UP’s Lucknow; 12 Covid-19 cases in state

गृह मंत्रालय ने जारी की 1 दिसंबर से लागू होने वाली कोरोना की नई गाइडलाइन

Hindustanprahari

Shah Rukh Khan plays a scientist in Ranbir Kapoor, Alia Bhatt-starrer Brahmastra: report

जब पहली बार किसी गेंदबाज ने पूरी टीम को किया ढेर, 64 साल के बाद भी है विश्व रिकॉर्ड