ब्रेकिंग न्यूज़
ब्रेकिंग न्यूज़ साहित्य

मार्कण्डेय त्रिपाठी की पंक्ति “विश्वकर्मा पूजा”

विश्वकर्मा पूजा

हे इस जग के शिल्पकार प्रभु ,
बारम्बार तुम्हें वंदन है ।
आज विश्वकर्मा पूजा है ,
तेरा बहुविधि अभिनन्दन है ।।

अपने औजारों को हम सब ,
पूजित करके बहुत अघाते ।
आदिस्रोत हो तुम रचना के ,
पूज्य भाव रख शुचि गुण गाते ।।

तुमसे ही प्रेरणा प्राप्त कर ,
चलती हैं जागतिक दुकानें ।
नई, नई चीजें बनती हैं ,
प्रगतिशील रहते कारखानें ।।

हथियारों की पूजा होती ,
गाड़ी को भी खूब सजाते ।
मंगल गान होता है घर में ,
पा प्रसाद अद्भुत सुख पाते ।।

विश्व कर्ममय रहता तुमसे ,
चलती तुमसे रोजी, रोटी ।
भूल,चूक को क्षमा करो प्रभु,
मानव बुद्धि बहुत है छोटी ।।

स्वर्णमयी लंका को तुमने ,
निज प्रतिभा से खूब सजाया ।
मित्र सुदामा की कुटिया को,
महल रूप दे,जग हरसाया ।।

अद्भुत कला छिपी है तुम में ,
हम पर कृपा बनाए रखना ।
यही प्रार्थना है हम सब की ,
इससे अधिक नहीं कुछ कहना ।।

मार्कण्डेय त्रिपाठी ।

संबंधित पोस्ट

अमेरिका में अब लोग स्वयं कर सकेंगे कोरोना की जांच

Hindustanprahari

देशभक्ति फिल्म के साथ दिव्या खोसला कुमार का दोबारा पदार्पण

Hindustanprahari

सामंथा से लेकर अरुण विजय तक: अपना बड़ा ओटीटी डेब्यू करने वाले साउथ के सितारे

Hindustanprahari

गोरखपुर शहर में चारो तरफ बरसात के पानी का कहर, घरों तक घुसा पानी, दो लाख लोग प्रभावित।

Hindustanprahari

मार्कण्डेय त्रिपाठी की पंक्ति “आदर्श जीवन”

Hindustanprahari

विद्या बालन ने ‘शेरनी’ के लिए निर्माताओं का जीता दिल

Hindustanprahari