ब्रेकिंग न्यूज़
ब्रेकिंग न्यूज़ साहित्य

मार्कण्डेय त्रिपाठी पंक्ति “राजा भोज और कालिदास”

राजा भोज और कालिदास

राजा भोज ने एकबार ,
कवि कालिदास से किए सवाल ।
सर्वश्रेष्ठ रचना क्या प्रभु की ,
बतलाओ, बोलो क्या ख्याल ।।

कालिदास ने कहा सहर्षित ,
मां ही है वह मूर्ति महान ।
मां से बढ़कर कोई न जग में,
उससे नहीं उऋण संतान ।।

सर्वश्रेष्ठ है पुष्प कौन सा ,
कविकुलगुरु की क्या है सोच ।
वह कपास का पुष्प है राजन्,
इसमें नहीं कोई संकोच ।।

सबसे अच्छी खुशबू किसकी ,
कवि के क्या हैं उच्च विचार ।
वर्षा से भीगी मिट्टी की ,
खुशबू महिमा अपरम्पार ।।

किसमें है मिठास अति, बोलो,
क्या कहते हो कालिदास ।
वाणी की मिठास अद्भुत है ,
इससे बुझ जाती हर प्यास ।।

सबसे अच्छा दूध है किसका,
जिसकी महिमा अमिट, अनंत ।
मां का दूध अधिक हितकारी,
कहते वैद्य, चिकित्सक,संत ।।

सर्वाधिक काला क्या बोलो ,
जिससे सभी रहें भयभीत ।
वह कलंक है भोजराज जी,
बड़ा भयानक है यह मीत ।।

सबसे भारी क्या है जग में ,
जिससे बचें सुधीजन,संत ।
पाप सा भारी नहीं है कुछ भी,
सत् जीवन का करता अंत ।।

सबसे सस्ती कौन चीज़ है ,
जो बिन मांगे मिल जाती ।
वह सलाह है, सभी जानते ,
मिलती रहती बहुभांती ।।

सबसे महंगा क्या है बोलो ,
जो मुश्किल से देते जन ।
राजन्,वह सहयोग है सच में,
मिले अगर तो हर्षित मन ।।

सबसे कड़वा क्या,समझाओ,
जिस पथ पर चलना दुष्कर ।
सत्य मार्ग तलवार धार है ,
संत चलें नित जिस पथ पर ।।

दस प्रश्नों के उत्तर पाकर ,
भोजराज जी हुए प्रसन्न ।
कालिदास को दिए बधाई ,
जिसे देख कुछ जन थे सन्न ।।

मार्कण्डेय त्रिपाठी ।

संबंधित पोस्ट

सामाजिक व सांस्कृतिक संदेश के साथ मरीना एनक्लेव में मनाया गया गणेशोत्सव

Hindustanprahari

जुड़वां बच्चों के लिए निओलेक्टा पाश्चराइज्ड ह्यूमन ब्रेस्ट मिल्क (पीएचबीएम) का उपयोग करके बेहद खुश हैं – क्रिकेटर दिनेश कार्तिक

Hindustanprahari

दृष्टिहीनों की सहायता के लिए हमेशा आगे रहेगा नयन फाउंडेशन ऑफ परफॉर्मिंग आर्ट्स : नैना कुट्टप्पन

Hindustanprahari

चैम्पियन ऑफ चेंज महाराष्ट्र संस्करण 2021 में राजनैतिक, व्यवसाय, सिनेमा, कला जगत की विभूतियों का सम्मान 

Hindustanprahari

डॉक्टर जी बनकर आ रहे आयुष्मान खुराना

Hindustanprahari

मार्कण्डेय त्रिपाठी की हास्य व्यंग्य रचना “बीमार होने का सुख”

Hindustanprahari