ब्रेकिंग न्यूज़
ब्रेकिंग न्यूज़ साहित्य

मार्कण्डेय त्रिपाठी की पंक्ति “रक्तदान की महत्ता”

रक्तदान की महत्ता

 

श्रद्धापूर्वक जो देते हम ,

सच में वही दान है भाई ।

दान महत्ता सर्वविदित है ,

इसमें नहीं चले चतुराई ।।

 

विविध रूप के दान हैं प्रचलित,

सबका अपना शुचि महत्व है ।

दान पात्रता विचारणीय है ,

भाव समर्पण मुख्य तत्व है ।।

 

रक्तदान की विदित महत्ता ,

इससे नव जीवन मिलता है ।

रक्त बूंद अनमोल है सच में ,

इसे दान कर उर खिलता है ।।

 

रक्तदान करने वालों के ,

सेहत पर कुछ असर न होता ।

तोड़ो सब भ्रम जाल बन्धु तुम,

कोई नहीं स्वास्थ्य निज खोता ।।

 

चलो सहर्षित रक्तदान कर ,

हम मानव कर्तव्य निभाएं ।

इंतजार करता है कोई ,

उसमें जीवन ज्योति जगाएं ।।

 

स्वयंसेवी संस्थाएं अगणित ,

रक्तदान की शिविर लगातीं ।

योगदान हम करें सहर्षित ,

इससे बहुत खुशी सच आती ।।

 

अस्पताल में जाकर देखें ,

रक्त मांग सचमुच ज्यादा है ।

कहीं कमी ना होने पाए ,

इसकी कोई न मर्यादा है ।।

 

मानवता की यह पुकार है ,

बढ़ चढ़कर हम फ़र्ज़ निभाएं ।

अपने रक्तदान से मित्रों ,

मानव जीवन सफल बनाएं ।।

 

मार्कण्डेय त्रिपाठी ।

संबंधित पोस्ट

भागलपुर का मेयर कैसा हो संवाद परिचर्चा में 37 प्रसिद्ध संस्थाओं व 102 प्रतिनिधियों ने प्रो0 डॉ0 देवज्योति मुखर्जी को मेयर बनाने का लिया संकल्प 

Hindustanprahari

देवेंद्र फडणवीस बोले – 2022 मे बीएमसी पर भगवा झंडा लहराएगा लेकिन वो झंडा बीजेपी का होगा

Hindustanprahari

केंद्रीय मंत्री रामदास आठवले ने लॉन्च किया मसीमो पिज़्ज़ेरिया का आऊटलेट

Hindustanprahari

कहानी भारतीय रेलवे के उस अफसर की जो कही भी जाते है रेलवे स्टेशन की काया पलट जाती है!

Hindustanprahari

क्रिकेटर मिथाली राज की खेल यात्रा का भावनात्मक चित्रण है ‘शाबास मिथु’

Hindustanprahari

Hindustan Prahari e-paper 14 Jun to 20 Jun 2022

Hindustanprahari