ब्रेकिंग न्यूज़
बिज़नेस ब्रेकिंग न्यूज़

आईएचसीएल ने अहमदाबाद में चौथा ‘जिंजर होटल’ शुरू किया

गुजरात में आईएचसीएल के कुल होटल्स की संख्या 19 है और उनमें से चार होटल्स का काम अभी चल रहा है

मुंबई : भारत की सबसे बड़ी हॉस्पिटैलिटी कंपनी इंडियन होटल्स कंपनी (आईएचसीएल) ने अहमदाबाद के आरटीओ सर्किल में नया जिंजर होटल शुरू करने की घोषणा की है। ब्रांड के लीन लक्स डिज़ाइन और मेहमानों को शानदार, आधुनिक और बेहद सुविधाजनक हॉस्पिटैलिटी का अनुभव प्रदान करने के सेवा सिद्धांत के अनुसार इस होटल को डिज़ाइन किया गया है।

आईएचसीएल की एग्जीक्यूटिव वाईस प्रेसिडेंट सुश्री दीपिका राव ने बताया, “जिंजर अहमदाबाद को शुरू करके आईएचसीएल ने इस शहर में अपनी मौजूदगी को और भी मज़बूत किया है। कारोबार के अनगिनत अवसर और कई माइक्रो मार्केट्स का शहर अहमदाबाद जिंजर होटल्स के लिए एक बहुत बड़ा अवसर है। यह इस शहर का चौथा ऑपरेशनल होटल है।”

सूट्स समेत कुल 111 कमरों का जिंजर अहमदाबाद, आरटीओ सर्किल कमर्शियल हब माने जाने वाले एक मशहूर इलाके में स्थित है, यहां से सरदार वल्लभभाई पटेल इंटरनेशनल एयरपोर्ट, महात्मा गांधी आश्रम और शहर के दूसरे महत्वपूर्ण बिज़नेस सेंटर्स तक आसानी से पहुंचा जा सकता है। यहां ऑल-डे डाइनिंग रेस्टोरेंट क्यूमिन में स्वादिष्ट स्थानीय व्यंजनों का लुफ्त उठाते हुए आराम, सुविधा और शांति का अनुभव किया जा सकता है। इस होटल में मीटिंग रूम और फिटनेस सेंटर भी हैं।

अहमदाबाद गुजरात की वित्तीय राजधानी होने के साथ-साथ समृद्ध सांस्कृतिक विरासत और ऐतिहासिक स्थलों के लिए दुनिया भर के सैलानियों के लिए एक मशहूर डेस्टिनेशन भी है। इस होटल को मिलाकर गुजरात में आईएचसीएल के कुल होटल्स की संख्या 19 तक पहुंच चुकी है और उनमें से चार होटल्स का काम अभी चल रहा है।

– गायत्री साहू

संबंधित पोस्ट

बेहतरीन भक्ति गीत और भजन के साथ महत्वपूर्ण मंदिरों का लाइव दर्शन कराएगा ‘शेमारू भक्ति

Hindustanprahari

‘मेरे सनम’ लॉन्च होते ही हुआ वायरल, वीडियो में दिखेंगे सिद्धार्थ निगम-सौम्या वर्मा

Hindustanprahari

पश्चिम रेलवे ने आरपीएफ शहीदों को दी श्रद्धांजलि

Hindustanprahari

कोरोना काल में जरूरतमंदों के मसीहा बन गए शहंशाह अमिताभ बच्चन

Hindustanprahari

‘ससुराल गेंदा फूल सीजन 2’ में नज़र आएगी अभिनेत्री शिल्पा गांधी

Hindustanprahari

क्यों मनाई जाती है अंबेडकर जयंती? जानें महत्व और इतिहास

Hindustanprahari