ब्रेकिंग न्यूज़
साहित्य

काव्यसृजन महिला मंच का बरखा बहार व शहीदों को नमन आयोजन सम्पन्न

काव्य सृजन महिला मंच के तत्वावधान में और टेन न्यूज़ के सौजन्य से का.स. म. मं. की अंतरराष्ट्रीय अध्यक्षा और ख्वाबगाह की अध्यक्षा अनुपम रमेश किंगर द्वारा एक अंतरराष्ट्रीय काव्य गोष्ठी का आयोजन किया गया, जिसमें भारत सहित अनेक देशों से कवि मनीषियों ने भाग लिए। बरखा बाहर नामक इस काव्य संध्या में कारगिल विजय दिवस के उपलक्ष्य में सभी ने देश प्रेम और शहीदों के प्रति कृतज्ञता से ओत प्रोत कविताओं का पाठ किया। कार्यक्रम की अध्यक्षता पंडित शिवप्रकाश जौनपुरी ने की और मुख्य अतिथि मुम्बई से श्रीमती मंजू लोधा थीं।संचालन अनुपम रमेश किंगर ने किया।
यह आयोजन दो सत्रों मे विभाजित था। एक सत्र में बरखा बहार से संबन्धित तो दूसरे सत्र में शहीदों को नयन करते हुए देशभक्ति से परिपूर्ण रचनायें सुनने को मिली। 2 घंटे तक चले इस साहित्यिक कार्यक्रम में अनेक जाने पहचाने कवियों ने इस संध्या को अपने शब्दों से भारतीयता में सराबोर कर दिया। भाग लेने वाले कवियों में सर्वश्री त्रिलोक नाथ पांडेय, यशपाल यश, श्वेता सिंह उमा, विभा तिवारी , निवेदिता रॉय , गरिमा सूदन, काव्यसृजन के उपकोषाध्यक्ष सौरभ दत्ता जयंत, पं.शिवप्रकाश जौनपुरी, कु.यशवी लोढ़ा एवं संचालिका अनुपम रमेश किंगर आदि थे। यह आयोजन फेसबुक व यूट्यूब पर भी लाईव चल रहा था। जहाँ श्रोताओं एवं दर्शकों द्वारा कार्यक्रम सराहा गया। इस अवसर पर सभी के काव्य पाठ की एक ई पत्रिका का भी मंजू लोढ़ा व पं.शिवप्रकाश जौनपुरी के करकमलों द्वारा विमोचन भी किया गया।
आयोजन की मुख्य अतिथि आदरणीया मंजू लोढ़ा ने आयोजन की सराहना करते हुए काव्यसृजन महिला मंच को साधुवाद दिया और कहा कि महिला मंच ने आज का यह आयोजन हमारे लिए ही नहीं वरन पूरे देश के लिए अविस्मरणीय बना दिय और खास बात यह रही कि मिट्टी छोड़ने के बाद भी अपनी मिट्टी जुड़े रहना यह अति प्रशंसनीय है।बहरीन से आयोजित इस आयोजन में मुख्य अतिथि बनना मेरे लिए सौभाग्य की बात है।
अध्यक्षता कर रहे पं.शिवप्रकाश जौनपुरी ने सभी रचनाकारों की रचना पर प्रकाश डालते हुए सबको साधुवाद दिया। विशेषत: अनुपम रमेश किंगर के निःस्वार्थ हिन्दी सेवा के लिए साधुवाद दिया और अपनी देश भक्ति से ओत प्रोत कजरी से सबको आत्मविभोर कर दिया।
अंत में काव्यसृजन महिला मंच की अंतर्राष्ट्रीय अध्यक्षा अनुपम रमेश किंगर ने सभी का कवि कवयित्रियों आभार व्यक्त किया। फेसबुक व यूट्यूब से जुड़े दर्शक श्रोताओं का विशेष आभार व्यक्त करते हुए अभिनंदन किया और सभी निवेदन करते हुए कहा कि इसी तरह आप सबका स्नेह सदैव संस्था पर बना रहे। जिससे हमारा मार्ग प्रशस्त होता रहे।

संबंधित पोस्ट

मातृ दिवस पर अग्निशिखा का कवि सम्मेलन व सम्मान समारोह सम्पन्न

Hindustanprahari

कवि मार्कण्डेय त्रिपाठी की पंक्ति संत हृदय

Hindustanprahari

‘आशा के पल’ कार्यक्रम का आयोजन सम्पन्न

Hindustanprahari

मार्कण्डेय त्रिपाठी की पंक्ति “उर्मिला वियोग”

Hindustanprahari

मार्कण्डेय त्रिपाठी की पंक्ति “सीता जी की व्यथा”

Hindustanprahari

पवन तिवारी के उपन्यास ‘त्यागमूर्ति हिडिम्बा’ को साहित्य चेतना सम्मान 2021

Hindustanprahari