ब्रेकिंग न्यूज़
साहित्य

स्वस्थ सोच – मार्कण्डेय त्रिपाठी (कवि)

स्वस्थ सोच

स्वस्थ सोच यदि तुम चाहो तो ,
सद्ग्रंथों का पाठ करो ।
सब भ्रमजाल बिखर जाएगा ,
बस प्रभु का तुम जाप करो ।।

गलत पुस्तकों के अध्ययन से ,
मन विकृत हो जाता है ।
मन ही है सुख, दुख का कारण,
चैन कहां मिल पाता है ।।

समय व्यर्थ होता है इससे ,
चिंतन कलुषित हो जाता ।
सोच सिमटकर रह जाती है ,
जग सुख ही मन को भाता ।।

आर्ष ग्रन्थ सन्मार्ग दिखाते,
सोच सात्विक हो जाती ।
वेद, शास्त्र पढ़ने से सचमुच ,
नयी ज्योति उर में आती ।।

कितना पढ़ते हो ,मत सोचो ,
क्या पढ़ते हो, यह जानो ।
कितना खाते हो,मत देखो ,
क्या खाते हो, पहचानो ।।

मनोरंजन के नाम पर देखो ,
क्या, क्या जन पढ़ते हैं आज ।
दूषित छबि मन में जगती है ,
माथ पीटता स्वस्थ समाज ।।

चिंतन,मनन अगर दूषित हो ,
भला कार्य कैसे हो शुद्ध ।
आज विपथगामी चिंतन से ,
चिन्ता में हैं स्वस्थ, प्रबुद्ध ।।

मोबाइल के दुरुपयोग से ,
गलत उभरती है तस्वीर ।
पता नहीं क्या, क्या पढ़ते जन,
क्या, क्या देख रहे उर चीर ।।

बाल, युवा के मनस् पटल पर ,
स्पष्ट दिख रहा कलुष प्रभाव ।
शिक्षा है, संस्कार नहीं है ,
बदल रहा निर्दोष स्वभाव ।।

भौतिकवाद चढ़ा सिर ऊपर ,
कौन सुने मूल्यों की बात ।
सात्विक चिंतन,मनन सुप्त है ,
उर में चले घात, प्रतिघात ।।

गानों व संवादों में भी ,
गायब है शुचि जीवन दृष्टि ।
कला काल सापेक्ष हो गई ,
कहां गई मन भावन वृष्टि ।।

सब कुछ का बाजार हो गया ,
सब बिकने को हैं बेताब ।
सब अवसर की हैं तलाश में ,
मिटी आज मूल्यों की आब ।।

जैसा चाहो,लिखवा लो तुम ,
मिटी आज खुद की पहचान ।
पैसा ही सर्वस्व हो गया ,
बसे सभी के इसमें प्राण ।।

पता नहीं क्या होगा प्रभुवर ,
रखना तुम संतों की लाज ।
भटक गई है सृष्टि तुम्हारी ,
तुम क्या सोच रहे हो आज ।।

धर्म पिपासु आत्माओं की ,
सुन लो प्रभुवर करुण पुकार ।
एक बार फिर आ जाओ तुम ,
कर दो तुम समाज उद्धार ।।

मार्कण्डेय त्रिपाठी (कवि)

संबंधित पोस्ट

मार्कण्डेय त्रिपाठी पंक्ति “राजा भोज और कालिदास”

Hindustanprahari

कहानी : कुंजेश्वर और स्वर्ण हांडी

Hindustanprahari

मार्कण्डेय त्रिपाठी की पंक्ति “कृष्ण वियोग”

Hindustanprahari

मुंशी प्रेमचंद की जयंती पर ग्लोबल कायस्थ कॉन्फ्रेंस की प्रस्तुति “अभिव्यक्ति”

Hindustanprahari

कवि मार्कण्डेय त्रिपाठी की पंक्ति संत हृदय

Hindustanprahari

मार्कण्डेय त्रिपाठी की पंक्ति “दशा और दिशा”

Hindustanprahari