ब्रेकिंग न्यूज़
ब्रेकिंग न्यूज़ राज्य

सीएम शिवराज सिंह चौहान ने प्लास्टिक प्रदूषण को रोकने के लिए सोशल मीडिया प्लेटफार्म कू (Koo) पर की अपील

भोपाल: आज के समय में प्लास्टिक पर्यावरण का सबसे बड़ा दुश्मन बन गया है और ये तो सब जानते ही हैं कि पर्यावरण का संकट हमारे सामने कितनी बड़ी चुनौती बनकर खड़ा है. प्लास्टिक कचरे का बढ़ता अंबार इंसानी सभ्यता के लिए सबसे बड़े खतरे के रूप में उभर रहा है और न सिर्फ इंसानी सभ्यता बल्कि तरह-तरह के जीव-जंतुओं के लिए यह भी एक बड़ा खतरा है. यहां तक की समुद्र में भी प्लास्टिक कचरे का अंबार है, समुद्री जीवों के अस्तित्व पर खतरा बनकर मंडरा रहा है. आज सोशल मीडिया कू ( Koo) के माध्यम से नेशनल कंस्यूमर डे पर मध्य प्रदेश के सीएम शिवराज सिंह चौहान ने प्रदेश में लोगों से अपील की है की है प्लास्टिक का इस्तेमाल बंद किया जाए.

सीएम शिवराज सिंह चौहान सोशल मीडिया प्रदेश के लोगो के लिए सन्देश देते हुए सोशल मीडिया प्लेटफार्म कू (Koo) पर लिखते हैं, आप सबसे अनुरोध है कि प्लास्टिक का उपयोग न करें और दूसरों को भी इसके लिए प्रेरित करें. आइये, प्लास्टिक मुक्त मध्यप्रदेश के निर्माण में अपना हरसंभव योगदान देने का संकल्प लें. हम आपको बता दें इस बार नेशनल कंस्यूमर डे का इस साल का थीम है भारत और विश्व में बढ़ता प्लास्टिक प्रदूषण.

सीएम शिवराज सिंह चौहान के साथ पंजाब सीएम ऑफिस और डिपार्टमेंट ऑफ़ आई टी – उत्तर प्रदेश ने भी इस पर सोशल मीडिया प्लेटफार्म कू (Koo) पर इस मुहीम का हिस्सा बनें. आज #NationalConsumerDay है और इस दिन का थीम – ”#plasticpollution को रोकना जरूरी है। आप सबसे अनुरोध है कि प्लास्टिक का उपयोग न करें और दूसरों को भी इसके लिए प्रेरित करें। आइये, प्लास्टिक मुक्त मध्यप्रदेश के निर्माण में अपना हरसंभव योगदान देने का संकल्प लें।

संबंधित पोस्ट

 योगी जी तक धीरे धीरे पहुंच ही गई ‘द कन्वर्जन’ फिल्म मुद्दा

Hindustanprahari

गोरखपुर ललित नारायण मिश्र रेलवे हॉस्पिटल में 500 लीटर ऑक्सीजन प्लांट का हुआ उद्घाटन।

Hindustanprahari

बिना जानकारी कैंप लगने पर सुकमा जिले में ग्रामीण आंदोलनरत

Hindustanprahari

नेशनल ज्वेलरी अवार्ड 2021-22 जूरी राउंड का समापन, 23 सितंबर को ग्रैंड फिनाले के लिए मंच तैयार

Hindustanprahari

10 जुलाई को होगा ब्लाक प्रमुख चुनाव राज्य निर्वाचन आयोग का ऐलान।

Hindustanprahari

ऑक्सिजन की कमी से 20 मौतें, जयपुर गोल्डन अस्पताल ने हाई कोर्ट में दिल्ली सरकार पर उठाए सवाल

Hindustanprahari