ब्रेकिंग न्यूज़
देश-विदेश

सीएम ममता के भतीजे की बीजेपी को खुली चुनौती कहा ड़ेढ़ साल में ही उखाड़ फेकेंगे बीजेपी की सरकार त्रिपुरा से

अभिषेक बनर्जी ने जोर देकर कहा कि डेढ़ साल के अंदर त्रिपुरा से बीजेपी की सरकार को उखाड़ फेंका जाएगा. वे कहते हैं कि त्रिपुरा में ये लड़ाई बीजेपी और टीएमसी के खिलाफ नहीं है बल्कि बीजेपी और आम जनता के खिलाफ है.

टीएमसी महासचिव अभिषेक बनर्जी

बंगाल में खेला करने के बाद त्रिपुरा पर अपनी नजरें जमाईं सीएम ममता बनर्जी बीजेपी को वहां से भी उखाड़ फेंकने के सपने देख रही हैं. टीएमसी के राष्ट्रीय महासचिव अभिषेक बनर्जी लगातार त्रिपुरा के दौरे पर जा रहे हैं, वहां पर संगठन को मजबूत करने में लग गए हैं. अब रविवार को भी अभिषेक त्रिपुरा दौरे पर थे. उनका ये दौरा काफी विस्फोटक रहा, जहां पर बीजेपी ने अगर विरोध प्रदर्शन किया तो अभिषेक ने भी पुलिस स्टेशन में खूब बवाल काटा.

अभिषेक बनर्जी का पुलिस स्टेशन दौरा

दरअसल कोरोना नियम तोड़ने की वजह से टीएमसी के 14 कार्यकर्ताओं को त्रिपुरा में गिरफ्तार कर लिया गया था. इस कार्रवाई से नाराज अभिषेक बनर्जी सीधे त्रिपुरा के खोवई पुलिस स्टेशन गए और वहां पर इंस्पेक्टर के रूम में 6 घंटे तक बैठे रहे. उन्होंने वकीलों के जरिए इंस्पेक्टर संग तगड़ी बहस की और सभी 14 कार्यकर्ताओं को रिहा करवाया.

त्रिपुरा से बीजेपी को उखाड़ फेंकने की चेतावनी

बाद में आजतक से बातचीत करते हुए अभिषेक बनर्जी ने जोर देकर कहा कि डेढ़ साल के अंदर त्रिपुरा से बीजेपी की सरकार को उखाड़ फेंका जाएगा. वे कहते हैं कि त्रिपुरा में ये लड़ाई बीजेपी और टीएमसी के खिलाफ नहीं है बल्कि बीजेपी और आम जनता के खिलाफ है. हम यहां से डेढ़ साल के भीतर बीजेपी की सरकार को उखाड़ फेंकेंगे.

वहीं बीजेपी के डबल इंजन वाले नारे पर तंज कसते हुए अभिषेक ने कहा कि उसी डबल इंजन का नतीजा है कि त्रिपुरा में इस स्तर पर राजनीतिक हिंसा की जा रही है. उन्होंने कहा कि बीजेपी डबल इंजन की सरकार बोलते हैं लेकिन यहां क्या हाल है देखिए. हमारे ऊपर हमला किया जा रहा है. बिप्लब देव को अगर लगता है कि त्रिपुरा किसी के बाप की जागीर है तो त्रिपुरा किसी के बाप की जागीर नहीं है.

बंगाल के बाद त्रिपुरा में जंग

अब अभिषेक का इतना तल्ख अंदाज इसलिए देखने को मिल रहा है क्योंकि त्रिपुरा में टीएमसी के कार्यकर्ताओं पर हमला हुआ है. उनके काफिले पर पत्थरबाजी की गई है. अभिषेक की नजरों में ये सारे हमले बीजेपी ने करवाए हैं और उन्हें त्रिपुरा में मजबूत होने से रोका जा रहा है. ऐसे में बंगाल के बाद अब त्रिपुरा की धरती भी बीजेपी बनाम टीएमसी की जंग की गवाह बनने जा रही है जहां पर फिर आरोप- प्रत्यारोप का दौर शुरू हो गया है.

संबंधित पोस्ट

बढ़ा हुआ यूरिक एसिड दे सकता है कई बीमारियों को न्योता, घर बैठे ऐसे कर सकते हैं कंट्रोल

गृह मंत्रालय ने जारी की 1 दिसंबर से लागू होने वाली कोरोना की नई गाइडलाइन

Hindustanprahari

नीतीश कुमार के शपथग्रहण समारोह से तेजस्वी यादव ने बनाई दूरी, जानें क्यों नहीं जाएंगे राजभवन

Hindustanprahari

पश्चिम रेलवे ने आरपीएफ शहीदों को दी श्रद्धांजलि

Hindustanprahari

नेतन्याहू का बारह वर्षों का शासन काल हो जाएगा खत्म

Hindustanprahari

युपी चुनाव में मगन बीजेपी की टीम

Hindustanprahari