ब्रेकिंग न्यूज़
साहित्य

शतकीय साहित्यिक सप्ताह की उत्कृष्ट शुरुआत

रा. सा.सा.व सां.संस्था काव्यसृजन की १००वीं काव्यगोष्ठी साहित्यिक सप्ताह के रूप मनाई जा रही है। जिसमें लगातार प्रतिदिन संध्या समय साढ़े पाँच बजे से विभिन्न आंचलिक भाषाओं में आयोजन किये जा रहे हैं। जिसमें १३अगस्त २०२१ दिन शुक्रवार को बांग्ला भाषा में आयोजन किया गया।
आदरणीय जितेन्द्रनाथ गोस्वामी की अध्यक्षता में संयुक्त रूप से स्नेहाशीष मुखर्जी व सौरभ दत्ता जयंत ने उत्कृष्ट संचालन किया। शेली सेन गुप्ता बांग्लादेश से मुख्य अतिथि के तौर पर पटल को सुशोभित कर रही थी। अनेक श्रोता भी इस आयोजन को देखे और सुने।
काव्यपाठ करने वाले कवि बिनय हाजरा, गौरांग सिन्हा, पीनाकी रंजन सामंत,खातूने जन्नत, अनवरुल इस्लाम, मनीन्द्र सरकार,अलक्तिका चक्रबर्ती,
संध्या मजूमदार, मालती मण्डल जितेन्द्रनाथ गोस्वामी, सौरभ दत्ता जयंत, स्नेहाशीष मुखर्जी,आदि कवि कवयित्रियों ने बांग्ला भाषा में कविता गजल गीत प्रस्तुत कर लगभग दो घंटे तक चले काव्य की फुहार से सबको आनंदित कर दिया।
मुख्य अतिथि शेली सेन गुप्ता ने आयोजन की उत्कृष्ट विवेचना की और संस्था के कार्य की मुक्त कंठ से सराहना की। आदरणीय जितेन्द्रनाथ गोस्वामी ने सभी कवियों की प्रस्तुति व रचना पर संक्षिप्त प्रकाश डालते हुए कविता व गजल लिखने के गुर सिखाते हुए सभी का उत्साह वर्धन किया।
अंत में संस्था के उपाध्यक्ष आदरणीय श्रीधर मिश्र ने सभी कवि कवयित्रियों व श्रोताओं का आभार प्रकट किया और निवेदन किया कि हमारे इस नवदिवसीय साहित्यिक यज्ञ में आप सबका स्नेह और सहयोग सदैव अपेक्षित है।

संबंधित पोस्ट

मार्कण्डेय त्रिपाठी की पंक्ति “बाबा की महत्ता”

Hindustanprahari

अखिल भारतीय संस्था “काव्य सृजन ” का पंजीयन उत्सव अद्भुत और अनोखे अंदाज में संपन्न

Hindustanprahari

जन्माष्टमी के उपलक्ष्य पर अग्निशिखा मंच का रंगारंग कार्यक्रम सम्पन्न

Hindustanprahari

संकेतों पर निर्भर हुए संबंध – जी एस पांडेय (कवि)

Hindustanprahari

 अन्तर्राष्ट्रीय योग दिवस पर काव्यसृजन के पटल पर योग चर्चा 

Hindustanprahari

वक़्त गुजरने पर लौट के नहीं आता है,

Hindustanprahari