ब्रेकिंग न्यूज़
अन्य

राहुल गांधी ने कहा – कोई बताएगा कि भारत सरकार का सबसे कुशल मंत्रालय कौन सा है?

 

राहुल गांधी हर दिन दो-तीन ट्वीट करके कोरोना महामारी, बेरोजगारी, अर्थव्यवस्था के मुद्दे पर केंद्र को घेरते हैं. इसके अलावा दूसरे कांग्रेस नेता भी अलग-अलग मुद्दों केंद्र को घेरने का कोई मौका नहीं छोड़ते हैं.

नई दिल्ली: कोरोना संकट को लेकर कांग्रेस पार्टी लगातार केंद्र पर आरोप-प्रत्यारोप लगा रही है. केंद्र की ओर से उन दावों और आरोपों का खंडन किया जा रहा है. इस बीच कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने तंज कसते हुए ट्विटर कर एक सवाल उठाया है और जवाब भी खुद ही दिया है.

राहुल गांधी ने पूछा, ‘भारत सरकार का सबसे कुशल मंत्रालय कौन सा है?’ इसी ट्वीट में उन्होंने आगे लिखा, ‘झूठ और फालतु नारे लगाने वाला गुप्त मंत्रालय.’

एक दिन पहले उन्होंने महामारी, महंगाई, बेरोजगारी के मुद्दे पर ट्वीट किया था. ट्वीट में लिखा था, “महामारी, महंगाई, बेरोजगारी जो सब देखकर भी बैठा है मौन. जन-जन देश का जानता है.”

जिनके पास इंटरनेट नहीं है, उन्हें भी जीने का अधिकार है- राहुल गांधी
इससे पहले कांग्रेस नेता ने मांग की थी कि टीकाकरण केंद्र में बिना ऑनलाइन पंजीकरण के जाने वाले देश के प्रत्येक नागरिक को टीका लगाया जाना चाहिए. उन्होंने कहा कि जिनके पास इंटरनेट नहीं है, उन्हें भी जीने का अधिकार है. राहुल ने ट्वीट में लिखा था, “वैक्सीन के लिए ऑनलाइन पंजीकरण ही काफी नहीं है. टीकाकरण केंद्र पर जाने वाले हर उस व्यक्ति को इसका लाभ मिलना चाहिए. जिनका ऑनलाइन पंजीकरण नहीं हुआ है, जिनके पास इंटरनेट नहीं है, उन्हें भी जीने का अधिकार है.”

बता दें, राहुल गांधी हर दिन दो-तीन ट्वीट करके कोरोना महामारी, बेरोजगारी, अर्थव्यवस्था के मुद्दे पर केंद्र को घेरते हैं. इसके अलावा दूसरे कांग्रेस नेता भी अलग-अलग मुद्दों केंद्र को घेरने का कोई मौका नहीं छोड़ते हैं.

संबंधित पोस्ट

कोविड मरीजों के इलाज में इस्तेमाल होने वाली दवा को इस कंपनी ने कर दी सस्ती

Shah Rukh Khan plays a scientist in Ranbir Kapoor, Alia Bhatt-starrer Brahmastra: report

Voot Upcoming Web Series: ‘असुर’ के बाद आ रही एक और क्राइम थ्रिलर, देखिए ‘द गॉन गेम’ का फर्स्ट लुक

रेलवे सुरक्षा बल ने लखनऊ जं. पर 20 वर्षीय लावारिस लड़की को किया परिजनों के हवाले!

Hindustanprahari

Man tests positive for coronavirus in UP’s Lucknow; 12 Covid-19 cases in state

New Education Policy 2020: पाठ्यक्रम में बदलाव को लेकर शुरू हो चुका है काम, रचनात्मकता, संवाद व चिंतन को मिलेगी जगह