ब्रेकिंग न्यूज़
ऑटो

फ्लाइंग कारों का सपना 2030 तक होगा पूरा

फ्लाइंग कारों का सपना 2030 तक होगा पूरा, हुंडई यूरोपीय ऑपरेशन के सीईओ का विश्वास

हुंडई बिना रनवे के यूके के पहले हवाई अड्डे को तैयार करने के लिए भी काम कर रही है

आपको शायद याद होगा कि हुंडई बिना रनवे के यूके के पहले हवाई अड्डे को तैयार करने के लिए भी काम कर रही है जो विशेष रूप से ऐसे विमानों के लिए ही डिज़ाइन किया गया है जो इलेक्ट्रिक वर्टिकल टेक-ऑफ और लैंडिंग (eVTOL) में सक्षम हैं।

फ्लाइंग कारों की कल्पना हर गुजरते साल के साथ हकीकत के करीब होती जा रही है। कई कंपनियां इस तकनीक पर लगातार काम कर रही हैं, और टेस्टिंग के लिए प्रोटोटाइप भी तैयार कर चुकी हैं। जिससे देखकर लग रहा है, कि उड़ने वाली कारें जल्द ही दुनिया भर के शहरों में चालू हो जाएंगी। इसी दिशा में राह दिखाते हुए हुंडई यूरोपीय ऑपरेशन के सीईओ माइकल कोल ने उद्योग समूह सोसाइटी ऑफ मोटर मैन्युफैक्चरर्स एंड ट्रेडर्स के एक सम्मेलन में कहा, “हमें विश्वास है कि जल्द दुनिया में स्मार्ट गतिशीलता समाधान भविष्य का हिस्सा होगा।

बता दें, हुंडई ने शहरी हवाई मोबिलिटी में महत्वपूर्ण निवेश किया है। दक्षिण कोरियाई कार निर्माता एक फ्लाइंग टैक्सी विकसित कर रहा है जो इलेक्ट्रिक बैटरी से चलेगी और अत्यधिक भीड़भाड़ वाले शहरी केंद्रों से हवाई अड्डों तक पांच से छह लोगों को ले जा सकती है। कोल का मानना है कि उड़ने वाली कारें शहरों में भीड़भाड़ को कम करने में मदद करेंगी और यहां तक कि इन कारों के इस्तेमाल से कार्बन उत्सर्जन को कम करने में भी मदद मिलेगी।

Tata Altroz, Nexon और Harrier का डार्क एडिशन भारत में जल्द होगा लॉन्च, 7 जुलाई से बुकिंग हो सकती है शुरू

फ्लाइंग कारों के लिए हवाई अड्डा तैयार कर रही कंपनी

आपको शायद याद होगा कि हुंडई बिना रनवे के यूके के पहले हवाई अड्डे को तैयार करने के लिए भी काम कर रही है, जो विशेष रूप से ऐसे विमानों के लिए ही डिज़ाइन किया गया है जो इलेक्ट्रिक वर्टिकल टेक-ऑफ और लैंडिंग (eVTOL) में सक्षम हैं। यह हवाईअड्डा इस साल के अंत में कोवेंट्री में खुलने वाला है। जिस पर टैक्सियों और ऑटोनोमस डिलीवरी ड्रोन की उड़ानों की सुविधा प्रदान की जाएगी।

मानसून में बेहद काम आती हैं ये एक्सेसीरीज,कार को देती हैं सुरक्षा सफर भी हो जाता है सुहाना

सिर्फ 2 मिनट में कार से हवाई जहाज तक का एयरकार का सफर

कुछ दिनों पहले ऐसा ही एक प्रोटोटाइप AirCar द्वारा बनाया गया है, और इस कार ने पहली बार एक इंटर-स्टेट टेस्टिंग उड़ान पूरी की है। यहां खास बात यह रही कि यह पहली बार था जब किसी उड़ने वाली कार ने एक शहर से दूसरे शहर की उड़ान पूरी की। सामनें आई इस फ्लाइंग कार ने अपनी उड़ान को महज 35 मिनट में पूरा किया। एयरकार के मुताबिक यह उड़ने वाली कार 8,200 फीट की ऊंचाई पर 1,000 किमी उड़ने में सक्षम है। वहीं इसकी फ्लाइंग स्पीड 170 किमी प्रति घंटे की है।

संबंधित पोस्ट

कान में भी पहुंच सकता है कोरोना वायरस, रिसर्च में हुआ चौंकाने वाला खुलासा

पूर्व कप्तान सौरव गांगुली के पहले कोच अशोक मुस्तफी का निधन

कोविड मरीजों के इलाज में इस्तेमाल होने वाली दवा को इस कंपनी ने कर दी सस्ती

Tata और Toyota ने धनतेरस पर खूब बेचे वाहन, एसयूवी सेगमेंट में हैरियर का रहा दबदबा

Hindustanprahari

राशिफल 27 जुलाई: आज इन राशिवालों को रहना होगा सावधान, संभलकर करें निवेश

जब पहली बार किसी गेंदबाज ने पूरी टीम को किया ढेर, 64 साल के बाद भी है विश्व रिकॉर्ड