ब्रेकिंग न्यूज़
साहित्य

पवन तिवारी के उपन्यास ‘त्यागमूर्ति हिडिम्बा’ को साहित्य चेतना सम्मान 2021

अम्बेडकर नगर। अम्बेडकर नगर (उत्तरप्रदेश) के मूल निवासी युवा साहित्यकार पवन तिवारी के नये पौराणिक उपन्यास ‘त्यागमूर्ति हिडिम्बा’ को साहित्य चेतना सम्मान वर्ष 2021 के लिए चयनित किया गया है.


ज्ञात हो कि राष्ट्रीय स्तर का सम्मान प्रतिष्ठित साहित्यिक संस्था शील साहित्य परिषद छत्तीसगढ़, प्रति वर्ष अनेक विधाओं में देश भर के रचनाकारों को प्रविष्टियों के आधार पर प्रदान करती है. पवन तिवारी गत 23 वर्षों से मुंबई जैसे महानगर में रहते हुए साहित्य साधना में रत हैं. इससे पहले उनके पहले उपन्यास ‘अठन्नी वाले बाबू जी’ के लिए भी उन्हें महाराष्ट्र साहित्य अकादमी का जैनेन्द्र पुरस्कार मिल चुका है. उनके अब तक दो कथा संग्रह एवं दो उपन्यास प्रकाशित हो चुके हैं. एक कविता संग्रह काले अक्षर कवि और कविता प्रकाशन की प्रक्रिया में है. कविता गीत ग़ज़ल, निबन्ध, कहानी, उपन्यास सहित अनेक विधाओं में लिखने वाले पवन तिवारी को उनके पैत्रिक गाँव जहांगीरगंज स्थित अलाउद्दीनपुर गाँव में एवं आसपास के साहित्यकारों में ख़ुशी का माहौल है. स्थानीय साहित्यकार उमाशंकर शुक्ल ‘दर्पण’, सम्पूर्णानन्द दुबे, लालबहादुर चौरसिया ‘लाल’, सौरभ त्रिपाठी, देवमणि त्रिपाठी ‘अंगार’, रामदरश पाण्डेय ‘विश्वासी’, मीरा त्रिपाठी आदि ने हर्ष व्यक्त करते हुए बधाई दी है.

संबंधित पोस्ट

देवी छिन्नमस्ता

Hindustanprahari

मार्कण्डेय त्रिपाठी की पंक्ति “बरसात”

Hindustanprahari

कहानी : कुंजेश्वर और स्वर्ण हांडी

Hindustanprahari

वीर नमन

Hindustanprahari

शतकीय साहित्यिक सप्ताह की उत्कृष्ट शुरुआत

Hindustanprahari

मार्कण्डेय त्रिपाठी की पंक्ति “हिन्दुत्व”

Hindustanprahari