ब्रेकिंग न्यूज़
हेल्थ

कौन से फल होते हैं डाइबटीज में घातक ?

 

डायबिटीज पेशेंट इन 4 फलों से बना लें दूरी, वरना बढ़ जाएगा ब्लड शुगर लेवल

आमतौर पर फल सेहत के लिए हेल्दी होते हैं लेकिन कुछ फलों का सेवन करना डायबिटीज के मरीजों के लिए खतरनाक हो सकता है। जानिए ऐसे कौन से फल हैं जिन्हें खाने से शुगर पेशेंट को बचना चाहिये।

कोरोनाकाल में शुगर पेशेंट को अपनी सेहत का खास ध्यान रखना चाहिए। थोड़ी सी भी लापरवाही आपकी सेहत पर भारी पड़ सकती है। डायबिटीज के मरीजों के शरीर में ग्लूकोज का स्तर ठीक बना रहे इस वजह से इन्हें मीठा खाने के लिए मना किया जाता है। इसी वजह से शुगर पेशेंट को दवाओं के अलावा व्यायाम करने की भी सलाह दी जाती है। इसके साथ ही खानपान का भी ध्यान रखना बहुत जरूरी है। आमतौर पर फल सेहत के लिए हेल्दी होते हैं लेकिन कुछ फलों का सेवन करना डायबिटीज के मरीजों के लिए खतरनाक हो सकता है। जानिए ऐसे कौन से फल हैं जिन्हें खाने से शुगर पेशेंट को बचना चाहिए।

डायबिटीज पेशेंट रोजाना खाएं एक मुट्ठी मूंगफली, अपने आप कंट्रोल में रहेगा ब्लड शुगर लेवल

ना खाएं चीकू
चीकू का ग्लाइसेमिक इंडेक्स बहुत ज्यादा होता है जो कि शुगर पेशेंट के लिए नुकसानदायक होता है। इसके अलावा चीकू में कैलोरीज भी बहुत ज्यादा होता है। इस कारण भी चीकू को खाने से बचना चाहिए।

अनानास भी ना खाएं
अनानास बहुत ज्यादा मीठा होता है। इसी वजह से इसका सेवन करना शुगर पेशेंट के लिए हानिकारक होता है। एक ताजे अनानास की बात करें तो उसका जीआई 59 के करीब होता है। इसी वजह से इसे खाने से ब्लड में ग्लूकोज की मात्रा बढ़ जाती है, जो कि मधुमेह के रोगियों के लिए खतरनाक हो सकती है।

आम खाने से बचें
बहुत ज्यादा मीठा आम मधुमेह के रोगियों के लिए हानिकारक होता है। यहां तक कि दिल का दौरा पड़ने का भी खतरा बढ़ सकता है। करीब 100 ग्राम आम में 14 ग्राम चीनी की मात्रा होता है। अगर शुगर पेशेंट इसे खाएंगे तो ब्लड शुगर लेवल का संतुलन बिगड़ सकता है।

अंगूर
अंगूर में भी शुगर की मात्रा ज्यादा होती है। यही शुगर डायबिटीज मरीजों के लिए नुकसानदायक होता है। करीब 100 ग्राम अंगूर में 16 ग्राम शुगर मौजूद होता है। इसी वजह से इसका सेवन करने से परहेज करना चाहिए।

संबंधित पोस्ट

राशिफल 27 जुलाई: आज इन राशिवालों को रहना होगा सावधान, संभलकर करें निवेश

स्वस्थ तन, मन और भोजन गिलोय  ( Giloy)

Hindustanprahari

EMN ने बताई वजह – आखिर क्यों नहीं मिल रहा कोविशील्ड को यूरोप का ‘वैक्सीन पासपोर्ट’?

Hindustanprahari

ट्रांसएशिया ने कोविड-19 के इलाज के लिए 50 लाख रुपये से अधिक की 5 लाख से ज्यादा टैबलेट दान की

Hindustanprahari

सिज़ोफ्रेनिया बिना दवाई के शत प्रतिशत ठीक हो सकता है : डॉक्टर कैलाश मंत्री

Hindustanprahari

दैनिक राशिफल……31 जुलाई, 2020, शुक्रवार