ब्रेकिंग न्यूज़
हेल्थ

ट्रांसएशिया ने कोविड-19 के इलाज के लिए 50 लाख रुपये से अधिक की 5 लाख से ज्यादा टैबलेट दान की

ट्रांसएशिया ने कोविड-19 के इलाज के लिए विभिन्न एनजीओ, सरकारी व मिशन अस्पतालों को 50 लाख रुपये से अधिक की 5 लाख से ज्यादा टैबलेट दान की

मुंबई : भारत की अग्रणी इन-विट्रो डायग्नोस्टिक कंपनी ट्रांसएशिया बायो-मेडिकल्स लिमिटेड ने कोविड-19 रोगियों के इलाज के लिए 50 लाख रुपए से अधिक कीमत की 5 लाख से अधिक टैबलेट दान की हैं। इन दवाओं की पहचान भारत के कोविड-19 उपचार प्रोटोकॉल के एक भाग के रूप में की गई है और ये मनुष्यों पर महामारी के व्यापक प्रभाव को कम करने में सक्षम हैं। ये दवाएं प्रतिष्ठित दवा निर्माताओं से ली गई हैं और ये वर्ष 2023 तक लंबे समय तक चलने वाली शेल्फ लाइफ के साथ आती हैं।
इन दवाओं की खरीद और इसका वितरण ट्रांसएशिया बायो-मेडिकल्स की सीएसआर शाखा वज़ीरानी फाउंडेशन द्वारा किया गया है। इन दवाओं का ट्रांसएशिया की 700 से अधिक ऑन-फील्ड कर्मियों की टीम और विभिन्न धर्मार्थ ट्रस्टों द्वारा बारीकी से समन्वय किया गया है। इन फील्ड कर्मियों की देश भर में गहरी उपस्थिति है।
ट्रांसएशिया बायो-मेडिकल्स की कार्यकारी निदेशक श्रीमती माला वज़ीरानी ने इस पहल पर अपनी बात रखते हुए कहा, “आज हम सभी वास्तव में एक अभूतपूर्व स्थिति का अनुभव कर रहे हैं। पिछले कुछ महीनों में भारत कोविड-19 के बढ़ते मामलों का सामना कर रहा है, जिसने देश के स्वास्थ्य संसाधनों को सीमित कर दिया है।”
उन्होंने आगे कहा, “हम उन लोगों की मदद करके सम्मानित हैं जो कोविड-19 से पीड़ित अपने कई साथी भारतीयों के इलाज के लिए अथक संघर्ष कर रहे हैं। ट्रांसएशिया ने वायरस से लड़ने के लिए अपने चल रहे प्रयासों को तेज कर दिया है। इस बीमारी से लड़ने के लिए जरूरतमंदों और वंचितों को गुणवत्तापूर्ण स्वास्थ्य सेवाएं उपलब्ध कराने के हमारे प्रयास के तहत हम एनजीओ और मिशनरी अस्पतालों के साथ साझेदारी कर रहे हैं। हम हमारी कंपनी के इतिहास में सबसे बड़े मानवीय राहत प्रयास को तेजी से जुटाने के लिए भी काम कर रहे हैं।
यह पहल संगठन के हाल में किए गए कोविड-राहत प्रयासों के समय हुई है जिसके तहत कंपनी ने 3.30 करोड़ रुपये से अधिक के उपकरण दान किए। इसमें 200 बाइपैप मशीनें, 43 सेल काउंटर और 32 कोएगुलेशन एनालाइज़र्स शामिल हैं। ये उपकरण कोविड रोगियों के लिए महत्वपूर्ण हैं और रोग की गंभीरता की निगरानी में मदद करते हैं।
भारत की अग्रणी आईवीडी कंपनी के रूप में, ट्रांसएशिया ने महामारी की शुरुआत से ही भारत को वापस लड़ने में मदद करने के लिए अपने संसाधनों और प्रौद्योगिकी के लिए प्रतिबद्ध किया है। इसके कोविड-19 आईजीजी एंटीबॉडी परीक्षण, आरटीपीसीआर किट और डी डाईमर, सीआरपी, फेरिटिन जैसे महत्वपूर्ण मापदंडों के लिए पूरे भारत में और 100 से अधिक देशों में संक्रमण की प्रगति की निगरानी के लिए हजारों प्रयोगशालाओं और अस्पतालों द्वारा प्रभावी ढंग से नियोजित किया जा रहा है।
भविष्‍य में, ट्रांसएशिया संकट का मूल्यांकन करना और आवश्यकतानुसार अतिरिक्त संसाधन देना जारी रखेगा। पिछले चार दशकों में ट्रांसएशिया का सामाजिक कारणों का समर्थन करने का एक लंबा इतिहास रहा है। इसमें स्कूली बच्चों के लिए विकास कार्यक्रम चलाना, शैक्षिक छात्रवृत्ति देना और थैलेसीमिया का पता लगाना और जागरूकता शिविर लगाना शामिल है।

संबंधित पोस्ट

कौन से फल होते हैं डाइबटीज में घातक ?

Hindustanprahari

महिलाओं में बढ़ रही ओवेरियन सिस्ट की समस्या

Hindustanprahari

अपोलो देश भर के ज़रूरतमंद बच्चों को मुफ्त डिजिटल स्वास्थ्य सलाह प्रदान करेगा

Hindustanprahari

विटामिन एफ की कमी को कैसे दूर करें

Hindustanprahari

स्वास्थ के लिए लाभदायक होता है मिट्टी के पात्र में पका भोजन खाना

Hindustanprahari

पूर्व कप्तान सौरव गांगुली के पहले कोच अशोक मुस्तफी का निधन