ब्रेकिंग न्यूज़
ब्रेकिंग न्यूज़

टोक्यो ओलंपिक में सुमित नागल सिंगल्स मैच जीतने वाले तीसरे भारतीय बने

 

सुमित नागल ओलंपिक में 25 साल में पुरुष एकल स्पर्धा में जीत दर्ज करने वाले तीसरे भारतीय टेनिस खिलाड़ी बन गए, जिन्होंने टोक्यो खेलों में डेनिस इस्तोमिन को तीन सेटों में हराया.

सुमित नागल ओलंपिक में 25 साल में पुरुष एकल स्पर्धा में जीत दर्ज करने वाले तीसरे भारतीय टेनिस खिलाड़ी बन गए, जिन्होंने टोक्यो खेलों में डेनिस इस्तोमिन को तीन सेटों में हराया.

नागल ने दो घंटे 34 मिनट तक चले मैच में इस्तोमिन को 6-4, 6-7, 6-4 से मात दी. अब उनका सामना दूसरे दौर में दुनिया के दूसरे नंबर के खिलाड़ी दानिल मेदवेदेव से होगा.

जीशान अली ने सियोल ओलंपिक 1988 की टेनिस पुरुष एकल स्पर्धा में पराग्वे के विक्टो काबालेरो को हराया था. उसके बाद लिएंडर पेस ने ब्राजील के फर्नांडो मेलिजेनी को हराकर अटलांटा ओलंपिक 1996 में कांस्य पदक जीता था.

पेस के बाद से कोई भारतीय खिलाड़ी ओलंपिक में एकल मैच नहीं जीत सका है. सोमदेव देववर्मन और विष्णु वर्धन लंदन ओलंपिक 2012 में पहले दौर में ही हार गए थे.

नागल ओलंपिक से पहले अपने सर्वश्रेष्ठ फॉर्म में नहीं थे. उन्हें पहले सेट के छठे गेम में इस्तोमिन की सर्विस तोड़ने का मौका मिला, जो उन्होंने गंवा दिया. इस्तोमिन की सर्विस तोड़कर उन्होंने पहला सेट जीत लिया.

दूसरे सेट में भी वह 4- 1 से आगे थे, लेकिन दबाव उन पर हावी हो गया और अपनी सर्विस नहीं बचा सके. इस्तोमिन ने मुकाबला टाइब्रेकर तक खींचा.

आखिरी सेट में नागल ने लय बरकरार रखी. लेकिन अब उनका सामना ऑस्ट्रेलियाई ओपन उपविजेता मेदवेदेव से होगा, जिन्होंने कजाखस्तान के अलेक्जेंडर बुबलिक को 6-4, 7- 6 से हराया.

संबंधित पोस्ट

मार्कण्डेय त्रिपाठी की पंक्ति “वर्षा ऋतु”

Hindustanprahari

गड्ढा मुक्त सड़क के लिए नागरिक विकास पार्टी ने चेताया सड़क ना बनने की सूरत में होगा घेराव।

Hindustanprahari

जीवनधारा संघ संस्था द्वारा कोविड योद्धा पोलीस सुरक्षा बल को सेनीटाइज,मास्क, एलोवीरा साबुन व एयर पलक वितरण

Hindustanprahari

“सत्यमेव जयते सेवार्थ ट्रस्ट” ने कल्याण – डोम्बिवली में पानी की समस्या के निवारण हेतु मुख्यमंत्री सहित जल मंत्री को पत्र लिखा!

Hindustanprahari

आज से शुरू हो रहा जी-20 शिखर सम्मेलन, पीएम मोदी करेंगे शिरकत

Hindustanprahari

1 मई तक महाराष्ट्र में सख्त लॉकडाउन

Hindustanprahari