ब्रेकिंग न्यूज़
राज्य

छठ पूजा की तैयारी जोर-शोर से, घाट बनाने की प्रक्रिया शुरू

पटना। छठ पर्व, छठ या षष्‍ठी पूजा कार्तिक शुक्ल पक्ष के षष्ठी को मनाया जाने वाला एक हिन्दू पर्व है। सूर्योपासना का यह अनुपम लोकपर्व मुख्य रूप से बिहार, झारखण्ड, पूर्वी उत्तर प्रदेश और नेपाल के तराई क्षेत्रों में मनाया जाता है। इन दिनों पटना के घाट बनाने का काम जोर-शोर से चल रहा है। पटना के दानापुर से लेकर कलेक्टरीयट घाट, एन.आई.टी गांधी घाट से लेकर गाय घाट तक जो पटना शहर के आखिरी छोर तक की तैयारी चल रही है। कहा जाता है यह पर्व बिहारीयों का सबसे बड़ा पर्व है ये उनकी संस्कृति है। छठ पर्व बिहार मे बड़े धुम धाम से मनाया जाता है। ये एक मात्र ही बिहार या पूरे भारत का ऐसा पर्व है जो वैदिक काल से चला आ रहा है और ये बिहार कि संस्कृति बन चुका हैं। यहा पर्व बिहार कि वैदिक आर्य संस्कृति कि एक छोटी सी झलक दिखाता हैं। ये पर्व मुख्यः रुप से ॠषियो द्वारा लिखी गई ऋग्वेद मे सूर्य पूजन, उषा पूजन और आर्य परंपरा के अनुसार बिहार मे यहा पर्व मनाया जाता हैं। बिहार में हिन्दुओं द्वारा मनाये जाने वाले इस पर्व को इस्लाम सहित अन्य धर्मावलम्बी भी मनाते देखे जाते हैं। धीरे-धीरे यह त्योहार प्रवासी भारतीयों के साथ-साथ विश्वभर में प्रचलित हो गया है। छठ पूजा सूर्य, उषा, प्रकृति, जल, वायु और उनकी बहन छठी म‌इया को समर्पित है ताकि उन्हें पृथ्वी पर जीवन की देवताओं को बहाल करने के लिए धन्यवाद और कुछ शुभकामनाएं देने का अनुरोध किया जाए। छठ में कोई मूर्तिपूजा शामिल नहीं है।
त्यौहार के अनुष्ठान कठोर है और चार दिनों की अवधि में मनाए जाते हैं। इनमें पवित्र स्नान, उपवास और पीने के पानी (वृत्ता) से दूर रहना, लंबे समय तक पानी में खड़ा होना, और प्रसाद (प्रार्थना प्रसाद) और अर्घ्य देना शामिल है। परवातिन नामक मुख्य उपासक (संस्कृत पार्व से, जिसका मतलब ‘अवसर’ या ‘त्यौहार’) आमतौर पर महिलाएं होती हैं। हालांकि, बड़ी संख्या में पुरुष इस उत्सव का भी पालन करते हैं क्योंकि छठ लिंग-विशिष्ट त्यौहार नहीं है। छठ महापर्व के व्रत को स्त्री-पुरुष, बुढ़े-जवान सभी लोग करते हैं। कुछ भक्त नदी के किनारों के लिए सिर के रूप में एक प्रोस्टेशन मार्च भी करते हैं।
पर्यावरणविदों का दावा है कि छठ सबसे पर्यावरण-अनुकूल हिंदू त्यौहार है। यह त्यौहार नेपाली और भारतीय लोगों द्वारा मनाया जाता है।

संबंधित पोस्ट

घोटाले का आरोप लगा रामलला की जमीन पर

Hindustanprahari

आदिवासी छात्रों के लिए सैन्य और पुलिस बल पूर्व भर्ती प्रशिक्षण दिया जाएगा – सहायक कलेक्टर आयुषी सिंह

Hindustanprahari

नवी मुंबई के सानपाड़ा के पास सायन-पनवेल हाईवे पर लग्जरी बस में लगी आग

Hindustanprahari

भारतीय सेना में लेफ्टिनेंट बनी बांका बिहार की बेटी रुचि रानी नारी सशक्तिकरण का मिशाल पेश कर किया राज्य का नाम रौशन 

Hindustanprahari

बांबे हाई कोर्ट ने कहा महिलाएं कमजोर वर्ग है, इसलिए इन्हें अधिक सुरक्षा की जरूरत है।

Hindustanprahari

विश्व हिंदू सेवा संघ के राष्ट्रीय अध्यक्ष रवींद्र के. द्विवेदी के कोरोना को हराकर घर वापस आने पर कार्यकर्ताओं में खुशी की लहर

Hindustanprahari