ब्रेकिंग न्यूज़
ब्रेकिंग न्यूज़ शहर

क्या मुंबई में फिरसे लगने वाला है लॉकडाउन ?

बीएमसी ने मुंबई में कोरोना संकट के खिलाफ मुहिम तेज कर दी है. कोरोना नियमों का उल्लंघन करने वालों के खिलाफ बीएमसी सख्त कार्रवाई कर रही है. पब्स-क्लब्स में भी बीएमसी लगातार छापेमारी और कार्रवाई कर रही है.

मुंबई: देश की आर्थिक राजधानी मुंबई में कोरोना वायरस के मामले लगातार बढ़ रहे हैं. महामारी के बढ़ते खतरे के चलते बृहन्मुंबई नगर निगम (बीएमसी) कोरोना नियमों का पालन न करने वालों के खिलाफ कार्रवाई कर रही है. ऐसे में हर किसी के मन में है कि क्या बीएमसी लोकल लॉकडाउन लगाने की तैयारी में है? इस पर बीएमसी ने कहा है कि फिलहाल मुंबई में लॉकडाउन की कोई योजना नहीं है.

अतिरिक्त नगर आयुक्त सुरेश काकानी ने कहा, ‘मुंबई में लॉकडाउन विकल्प नहीं है. लेकिन सबसे खराब तैयारी हमारी ही है. मैंने सभी अस्पतालों में वेंटिलेटर, पैरा-मॉनीटर, हाउसकीपिंग स्टाफ, दवाओं की आपूर्ति, ऑक्सीजन, अग्नि उपकरण और सुरक्षा का निरीक्षण करने का निर्देश दिया है. ताकि जब मरीज बढ़ें तो वे उन्हें भर्ती करने के लिए तैयार रहें.”

 

उन्होंने बताया, ‘मुंबई के प्राइवेट अस्पतालों में 2523 बेड हैं और वर्तमान में केवल 779 बेड पर कोविड-19 के मरीज हैं. हम पहले निजी अस्पतालों को कोरोना के बेड की संख्या कम करने की अनुमति देने की योजना बना रहे थे, लेकिन मामलों के बढ़ने के कारण अभी फिलहाल ऐसा नहीं करेंगे.’ हर निजी अस्पताल में 80 फीसदी बेड कोरोना मरीजों के लिए सरकारी दरों पर आरक्षित हैं, जबकि बाकी 20 फीसदी अस्पताल की दरों के अनुसार हैं.

 

कोरोना के खिलाफ मुहिम
बीएमसी ने कोरोना के खिलाफ मुहिम तेज कर दी है. सभी जगहों पर कोरोना नियमों का उल्लंघन करने वालों के खिलाफ बीएमसी कार्रवाई कर रही है. पिछले तीन दिनों में 1305 इमारतों/ मंजिलों को सील कर दिया, जहां कोरोना के नए मामले पाए गए हैं. बिना मास्क के रेल में यात्रा करने वाले यात्रियों के खिलाफ कार्रवाई करने के लिए 300 मार्शल नियुक्त किए हैं. इसके अलावा पब्स-क्लब्स में भी बीएमसी लगातार छापेमारी और कार्रवाई कर रही है.

 

महाराष्ट्र में तीन महीने बाद कोविड-19 के 6000 नए मामले
महाराष्ट्र में तीन महीने बाद पहली बार शुक्रवार को कोविड-19 के 6,000 नए मामले आए जिससे महामारी की स्थिति बिगड़ने का संकेत मिलता है. राज्य में संक्रमण के 6112 नए मामलों में अधिकतर अकोला, पुणे और मुंबई खंड से आए हैं. इससे पहले राज्य में 30 अक्टूबर को एक दिन में 6,000 से ज्यादा मामले आए थे और उसके बाद मामलों की संख्या घटने लगी थी.

 

संक्रमण के नए मामलों के साथ संक्रमितों की संख्या 20,87,632 हो गयी जबकि 44 और लोगों की मौत होने से मृतक संख्या 51,713 हो गयी. इन 44 मौतों में 19 लोगों की मौत पिछले 48 घंटे में हुई, 10 की मौत पिछले सप्ताह हुई जबकि 15 की मौत उससे पहले हुई थी. मुंबई शहर और आसपास के इलाकों से संक्रमण के सबसे ज्यादा मामले आ रहे थे. लेकिन, 12 फरवरी के बाद से अकोला, अमरावती में संक्रमण के मामलों में तेज बढ़ोतरी हुई है. वहीं, मुंबई में दिसंबर के बाद से कोविड-19 के सबसे ज्यादा 823 मामले आए हैं. यहां संक्रमितों की संख्या 3,17,310 हो गयी जबकि पांच और लोगों की मौत हो जाने से मृतक संख्या 11,435 हो गयी.

संबंधित पोस्ट

आदिवासी परिवारों को विजय-अजय चैरिटेबल ट्रस्ट से मिला राशन

Hindustanprahari

क्यों मनाई जाती है अंबेडकर जयंती? जानें महत्व और इतिहास

Hindustanprahari

जहाँगीर आर्ट गैलरी में मुंबई, पुणे और बंगलौर के 7 समकालीन चित्रकारों की पेंटिंग की समूह प्रदर्शनी

Hindustanprahari

1 मई तक महाराष्ट्र में सख्त लॉकडाउन

Hindustanprahari

किसानों व मजदूरों की मांगों को लेकर निकोल ने किया नेशनल हाईवे जाम

Hindustanprahari

आकाश बायजूस मुंबई की छात्रा वैदेही झा ने नीट यूजी 2022 में 705 अंकों के साथ एआईआर 21वां स्थान प्राप्त किया

Hindustanprahari