ब्रेकिंग न्यूज़
अन्य ऑटो ऑनलाइन सर्विस कैरियर खाना-खजाना खोया-पाया जीवन शैली ज्योतिष देश-विदेश धर्म-अध्यात्म बिज़नेस ब्रेकिंग न्यूज़ मनोरंजन मोबाइल रिपोर्टर यात्रा राज्य वीडियो शहर स्पोर्ट हेल्थ

कोविड मरीजों के इलाज में इस्तेमाल होने वाली दवा को इस कंपनी ने कर दी सस्ती

नई दिल्ली:
Coronavirus (Covid-19): दवा बनाने वाली एक कंपनी ने कोविड- 19 के इलाज में काम आने वाली अपनी एंटीवायरल दवा फेविपिराविर (Favipiravir) का दाम 27 प्रतिशत घटाकर 75 रुपये प्रति गोली कर दिया है. कंपनी की यह दवा फेबीफ्लू ब्रांड नाम से बाजार में उतारी गई है. कंपनी ने एक बयान में कहा कि उसने अपनी दवा ‘फेबीफ्लू’ का दाम 27 प्रतिशत घटा दिया है. अब दवा का नया अधिकतम खुदरा मूल्य (एमआरपी) 75 रुपये प्रति टैबलेट होगा. फेबीफ्लू को पिछले महीने बाजार में उतारा था. तब एक गोली की कीमत 103 रुपये रखी गई थी.

यह भी पढ़ें: Gold Price Today: निवेश मांग बढ़ने से आज महंगे हो सकते हैं सोना-चांदी, देखें टॉप ट्रेडिंग कॉल्स

दवा के लिए कंपनी के अंकलेश्वर संयंत्र में हो रहा है एपीआई का निर्माण
कंपनी की ओर से दी गई जानकारी के मुताबिक हमारा आंतरिक विश्लेषण बताता है कि हमारी इस दवा को जहां-जहां अनुमति मिली है उन देशों के मुकाबले हमने भारत में इसे कम से कम दाम पर जारी किया है. इसकी एक बड़ी वजह दवा बनाने में इस्तेमाल होने वाले कच्चे माल (एपीआई) और यौगिक दोनों का विनिर्माण कंपनी के भारतीय संयंत्र में होना है. इससे कंपनी को लागत में लाभ हुआ है जिसे अब देश के लोगों को हस्तांरित करने की योजना है. हमें उम्मीद है कि इसके दाम में और कमी किये जाने से देश में बीमारों तक इसकी पहुंच और बेहतर होगी. कंपनी ने कहा कि दवा के लिए एपीआई का निर्माण उसके अंकलेश्वर संयंत्र में किया जा रहा है, जबकि दवा का यौगिक (फॉर्मूलेशन) उसके हिमाचल प्रदेश स्थित बद्दी संयंत्र में तैयार किया जा रहा है.

यह भी पढ़ें: देश में कोरोना के रिकॉर्ड 28 हजार नए मामले, कुल आंकड़ा 9 लाख के पार

कंपनी ने कहा कि उसने फेबीफ्लू की बिक्री के बाद उसके परिणामों को लेकर निगरानी रखनी शुरू कर दी है, ताकि दवा की क्षमता और सुरक्षा का अध्ययन किया जा सके. करीब 1,000 मरीजों पर निगरानी रख यह अध्ययन किया जा रहा है. यह दवा इन मरीजों को खाने की गोली के रूप में दी जा रही है. मलिक ने कहा कि हमें उम्मीद है कि बिक्री के बाद किए जा रहे इस निगरानी अध्ययन से हमें दवा की क्षमता और सुरक्षा के बारे में और अधिक जानकारी हासिल होगी. ग्लेमार्क ने 20 जून को उसके दवा फेबीफ्लू के लिये भारत के दवा नियामक से इसके विनिर्माण और विपणन की मंजूरी मिलने की घोषणा की थी. इसके साथ ही यह हल्के और बहुत हल्के कोविड- 19 संक्रमित मरीजों के लिये पहली मंजूरी प्राप्त दवा बन गई जिसे बाजार में बेचने की अनुमति दी गई.

यह भी पढ़ें: कोरोना रोगियों को दें हल्दी वाला दूध और आयुर्वेदिक काढ़ा, जानें इनके फायदे, ऐसे बनाएं मिश्रण

कंपनी ने कहा है कि उसने भारत में मामूली और हल्के संक्रमण वाले कोविड-19 मरीजों के लिये तैयार दवा के तीसरे चरण के क्लिनिकल परीक्षण को भी पूरा कर लिया है. परीक्षण के परिणाम जल्द ही उपलब्ध होंगे. स्वास्थ्य मंत्रालय के सोमवार सुबह जारी आंकड़ों के मुताबिक देश में कोरोना वायरस संक्रमितों की संख्या में एक ही दिन में 28,701 की बढ़ोत्तरी हुई है. कुल संक्रमितों की संख्या 8,78,254 पहुंच गयी है और मरने वालों का आंकड़ा 23,174 हो चुका है.

संबंधित पोस्ट

अनिवार्य टीकाकरण और जबरदस्ती के विरोध में आजाद मैदान में भारी संख्या में लोगों का विरोध प्रदर्शन

Hindustanprahari

उत्तर कोरिया ‘न्यूक्लियर टेस्ट’की कर रहा तैयारी, IAEA ने दिए संकेत, टेंशन में आई दुनिया

Hindustanprahari

डायबिटीज को बेहतर मैनेज करने के लिये मुट्ठी भर बादाम

Hindustanprahari

लव जिहाद की मानसिकता और बदलते भारत की समस्या का मूल और बचाव के जरूरी उपाय।

Hindustanprahari

चेतक फेस्टिवल का आयोजन महाराणा प्रताप के प्रिय घोड़े की स्मृति में 300 सालों से हो रहा है : रावल जयपाल सिंह

Hindustanprahari

स्वस्थ तन, मन और भोजन गिलोय  ( Giloy)

Hindustanprahari