ब्रेकिंग न्यूज़
राज्य

किसानों के कल्याण और  कृषि प्रथाओं को बढ़ावा देने के लिए 100 से ज़्यादा सरपंच को एक साथ लाया यूपीआई लिमिटेड

कार्यक्रम का आयोजन ऑनलाइन किया गया और उसमें कृषि उपज में सुधार लाने के उपाय, कोविड के दौरान ज़रूरी एहतियात आदि प्रासंगिक विषयों पर ज़ोर दिया गया

मुंबई : पर्यावरण के अनुकूल, टिकाऊ कृषि उत्पाद और सुविधाएं प्रदान करने वाली वैश्विक कंपनी यूपीएल लिमिटेड ने सरपंच मेले का आयोजन किया था, जिसमें महाराष्ट्र के 100 से ज़्यादा सरपंचों ने हिस्सा लिया। फसल की सुरक्षा के व्यापक समाधान, उपज और किसानों की कुल समृद्धि को बढ़ाने सहित कई महत्वपूर्ण विषयों पर साथ मिलकर चर्चा करने के उद्देश्य से कंपनी ने यह पहल शुरू की।

यूपीएल लिमिटेड के क्षेत्रीय निदेशक-भारत आशीष डोभाल ने सरपंच मेले की मेजबानी की। कंपनी द्वारा गोद लिए गए, महाराष्ट्र के दो गावों (तालुका पारनेर में वडाले और तालुका जुन्नर में आलेफाटा) को यूपीएल के उत्पादों और सेवाओं से मिल रहे लाभों की जानकारी सत्र के दौरान वक्ताओं ने दी। यूपीएल गांव की संकल्पना और उपज और किसानों की आय में वृद्धि का कारण बने हुए चिरस्थायी कृषि उत्पाद और प्रथाओं को अपनाने में किसानों की मदद के लिए यूपीएल लिमिटेड द्वारा किए गए उपाय आदि कई महत्वपूर्ण विषयों पर चर्चा की गयी। फसल के लिए बीमा सुरक्षा जैसे किसानों को दिए जा रहे अन्य लाभों के बारे में जानकारी दी गयी। सत्र में शामिल सरपंचों से इस चर्चा के बारे में बहुत ही अच्छा प्रतिसाद मिला, उनमें से कई सरपंचों ने कार्यक्रम को अपने गावों में लाने में रूचि दिखाई।

इसके अलावा, यूपीएल लिमिटेड के प्रतिनिधियों ने कोविड-19 के दौरान अपना ख्याल रखने के तरीकों पर भी जानकारी दी।

पहल के बारे में अपने विचार साझा करते हुए आशीष डोभाल ने कहा, “यूपीएल लिमिटेड में, हम अपनी क्षमताओं के अनुसार किसानों को लाभान्वित करने पर ध्यान केंद्रित कर रहे हैं। हमारे कार्यक्रमों में कृषि उपज में सुधार लाने और उसके ज़रिए किसानों की आय बढ़ाने के उद्देश्य से व्यापक दृष्टिकोण अपनाया जाता है। पहल में भाग लेने वाले सरपंच यूपीएल गांवों की संकल्पना के बारे में जानकर काफी खुश हुए और जब उन्हें पता चला कि उन गावों को कितने लाभ मिल रहे हैं, तब उन्होंने इस संकल्पना को अपने गावों में लाने की उत्सुकता दर्शायी। हमारी इस पहल की सफलता से मैं काफी खुश हूं और उम्मीद करता हूं कि हम विभिन्न माध्यमों ज़रिए ज़्यादा से ज़्यादा किसानों तक पहुंच पाएंगे और उन्हें अधिक सक्षम बनाएंगे।

पुणे जिले में तालुका जुन्नर रोहोकाडी गांव के सरपंच सचिन घोलप ने इस मेले के बारे में कहा, “सत्र में हमें काफी अच्छी जानकारी मिली और हमारे खेतों की क्षमता के बारे में हमारी समझ बढ़ी। यूपीएल लिमिटेड के उत्पादों और सेवाओं की जानकारी मिली, साथ ही हमें यह भी पता चला कि कैसे इन उत्पादों और सेवाओं से हमें न केवल उपज बल्कि हमारी आय बढ़ाने में भी मदद मिलेगी। इस कार्यक्रम को मैं हमारे गांव में लाने पर मैं ज़रूर सोचूंगा और आज मैंने जो देखा और जाना उसके आधार पर तो मैं दूसरे गावों को भी इसकी सिफारिश करूंगा।

अहमदनगर जिले के तालुका पारनेर के वाडुले गांव के सरपंच शिवाजी भापकर ने बताया कि खरीफ सीज़न के दौरान बोई गई हमारी प्याज़ की फसल का भारी नुकसान होता था। लेकिन पिछले खरीफ सीज़न में जब हमने प्याज़ की फसल में ज़ेबा का इस्तेमाल किया तो हमने पाया कि मिट्टी अच्छी मिलकर आयी जिससे बारिश के अतिरिक्त पानी को तेजी से बाहर निकालने में मदद होती थी और साथ ही पोषक तत्वों को जड़ों में इकठ्ठा किया जाता था। ज़ेबा के उपयोग से हमें अच्छी गुणवत्ता के प्याज़ की 20-30 प्रतिशत अधिक पैदावार मिली और साथ ही पके हुए प्याज़ के सड़ने के मामलों को कम करने में भी मदद मिली।

उन्होंने आगे कहा कि चिरस्थायी खेती के एक उदाहरण के रूप में ज़ेबा न केवल उपज को काफी हद तक बढ़ाता है बल्कि यह प्राकृतिक संसाधनों और खेती में लगायी जाने वाली उत्पादक सामग्री की बर्बादी को भी कम करता है, जिसके परिणामस्वरूप फसल का नुकसान कम होता है और किसानों की आय बढ़ती है।

यूपीएल:
चिरस्थायी कृषि उत्पादों और समाधानों की वैश्विक कंपनी यूपीएल लिमिटेड की सालाना आय 5 बिलियन डॉलर्स से ज़्यादा है। उद्देश्य से प्रेरित यह कंपनी ओपनएजी के ज़रिए पूरी कृषि मूल्य श्रृंखला के लिए प्रगति को आसान बनाने पर ध्यान केंद्रित करती है। हम एक ऐसा नेटवर्क बना रहे हैं जो पूरे उद्योग की सोच और काम करने के तरीकों की नयी परिभाषा रचेगा, इसमें नयी कल्पनाओं, नवीनतम तरीकों और नए जवाबों का स्वागत किया जाएगा, और इस तरह से हर एक खाद्य उत्पाद को अधिक चिरस्थायी बनाने के हमारे उद्देश्य की ओर हम आगे बढ़ते जाएंगे। कृषि समाधान प्रदान करने वाली, दुनिया भर की सबसे बड़ी कंपनियों में से एक होने के नाते हमारे विशाल पोर्टफोलियो में बायोलॉजिकल और पारंपरिक फसल सुरक्षा समाधान हैं, जिनके 13600 से ज़्यादा रेजिस्ट्रेशन्स किए हुए हैं। हम 130 से ज़्यादा देशों में अपने उत्पाद और सुविधाएं प्रदान कर रहे हैं और दुनिया भर में हमारे 10000 से ज़्यादा प्रतिनिधि हैं।

संबंधित पोस्ट

लॉकडाउन से प्रभावित स्वतंत्र पत्रकारों की सहायता में आगे आये जैकी श्रॉफ और रोहित शेट्टी

Hindustanprahari

आज पुणे में मेट्रो रेल परियोजना का उद्घाटन करेंगे पीएम मोदी, कई परियोजनाओं को दिखाएंगे हरी झंडी

Hindustanprahari

महाराष्ट्र के उप-मुख्यमंत्री अजित पवार और कर्नाटक के मुख्यमंत्री बीएस येदियुरप्पा में घमासान

Hindustanprahari

लाल किले में सुरक्षा के कड़े इंतजाम, आतंकवादियों के पोस्टर भी लगवाए गए

Hindustanprahari

द्वारकामाई चैरिटी संस्था के अध्यक्ष गौरीशंकर चौबे के जन्मदिन पर मरीजों में फल वितरण

Hindustanprahari

पूर्वोत्तर रेलवे ने अखिल भारतीय रेल क्रिकेट चैंपियनशिप का किया आयोजन

Hindustanprahari