ब्रेकिंग न्यूज़
साहित्य

काव्यसृजन संस्था की ओर से कविवर पं.श्रीधर मिश्र का जन्मोत्सव मनाया गया

रा.साहित्यिक सामाजिक व सांस्कृतिक संस्था काव्यसृजन द्वारा संस्था के उपाध्यक्ष कवि श्रीधर मिश्र का जन्मदिन बड़े ही निराले अंदाज में मनाया गया। अवधेश विश्वकर्मा नमन की अध्यक्षता में संचालन पं.शिवप्रकाश जौनपुरी ने किया।
आयोजन की शुरुआत अपनी शारदा वंदना से वंदनीया डॉ वर्षा सिंह ने की। इसके बाद तो गीतों गजलों का वो दौर चला जो अविस्मरणीय रहा। आज के आयोजन की खास बात यह रही कि विलुप्त होती लोकभाषा सोहर की प्रस्तुति कर पं.शिवप्रकाश जौनपुरी ने जहाँ उसे जीवंत रखने का प्रयास किया वहीं आज के आयोजन जन्मोत्सव को भी सार्थक बना दिया। पं.श्रीधर मिश्र को अपने शब्द रूपी पुष्पगुच्छ भेंट करते हुए कवि श्री माताप्रसाद शर्मा, सौरभ दत्ता जयंत, विनय शर्मा दीप , डॉ वर्षा सिंह, डी एन माथुर, हौंसिला प्रसाद अन्वेषी, डॉ जे पी बघेल, मुकेश कबीर,अवधेश विश्वकर्मा नमन, पं.रामचंद्र शर्मा, स्वयं श्रीधर मिश्र,बीरेन्द्र कुमार यादव ने अनंत बधाइयाँ और शुभकामनाएं प्रदान कीं, साथ में परिवार के वरिष्ठ कवि दिवाकर वैशम्पायन को उपस्थित लोगों जन्मदिन की बधाई व शुकामना देते हुए उनके स्वस्थ सुखी मंगलमय जीवन की कामना की।
अपने अध्यक्षीय भाषण में अवधेश विश्वकर्मा नमन जी ने आयोजन की सराहना करते हुए कवियों का उत्साहवर्धन किया और संस्था को साधुवाद दिया।
अंत में उपकोषाध्यक्ष सौरभ दत्ता जयंत ने पटल पर पधारे सभी सुधीजनों का आभार प्रकट कर कृतज्ञता ज्ञापित किया। आगे भी स्नेह सहयोग बनाये रखने का निवेदन भी किया और आयोजन के समापन की घोषणा करते हुए 25 दिसम्बर 2021 को काव्यसृजन द्वारा सम्पादित दो पुस्तकों काव्यसृजन वाटिका-२ होली काव्य संग्रह व पं.शिवप्रकाश जौनपुरी द्वारा लिखित ‘अवधी देशज बानी’ गीत संग्रह के विमोचन समारोह में शामिल होने के लिए सभी को आमंत्रित भी किया।
आयोजन के दौरान ही बहुत ही हृदयविदारक समाचार मिला,जिसे सुनकर सभी सन्न रह गये। हमारे देश के तीनो सेना के सेनानायक विपिन रावत उनकी पत्नी व अन्य 13 जवानों की मौत की खबर आई। सभी ने दिवंगत आत्माओं शांति हेतु दो मिनट का मौन रखकर विनम्र श्रद्धांजलि अर्पित की।

संबंधित पोस्ट

‘क्या विसात गैरों की, अपना ही गिराता है’.. बसंत पंचमी की पूर्व संध्या पर कवि गोष्ठी

Hindustanprahari

योग सतत जीवन आधारा

Hindustanprahari

मार्कण्डेय त्रिपाठी की हास्य व्यंग्य रचना “बीमार होने का सुख”

Hindustanprahari

पवन तिवारी के उपन्यास ‘त्यागमूर्ति हिडिम्बा’ को साहित्य चेतना सम्मान 2021

Hindustanprahari

कसम

Hindustanprahari

 आपने काजरोलकर का नाम नहीं सुना 

Hindustanprahari