ब्रेकिंग न्यूज़
देश-विदेश ब्रेकिंग न्यूज़ राज्य

करोना के नए वेरिएंट ओमीक्रोन से लेकर हर बीमारी से लड़ने के लिए तैयार है – एम्स गोरखपुर

गोरखपुर : गोरखपुर एम्स जब से शुरू हुआ है पूर्वांचलीओं में एक नई आशा की किरण जगी है जिसमें लोग यह मान रहे हैं कि अब बड़ी बीमारियों के लिए महानगरों और बड़े शहरों के अस्पतालों के चक्कर नहीं काटने पड़ेंगे। इसकी जमीनी तैयारियों के बारे में हिंदुस्तान प्रहरी की टीम ने एम्स की कार्यकारी निदेशक डॉ. सुरेखा किशोर से बातचीत की पेश है प्रमुख अंश;*

 

एम्स में कुल कितने विभाग हैं और अभी तक कौन-कौन से विभाग संचालित हैं?

जनरल ओपीडी में 14 विभाग हैं जिसमें डेंटिस्ट्री, डर्मेटोलॉजी, ई एन टी, जनरल मेडिसिन, जनरल सर्जरी, होम्योपैथी, एसथेटिक्स एंड गायनेकोलॉजी, ओफ्थामोलोजी, आर्थोपेडिक, पेडियाट्रिक्स, पी एम आर, साइकाइट्रि, पलमोनरी मेडिसिन, रेडियोग्राफी आदि।

वही स्पेशलिटी क्लिनिक्स में 13 विभाग है जिसमे फ्लू क्लीनिक, फैमिली मेडिसिन, ब्रेस्ट सर्जरी क्लीनिक, थायराइड सर्जरी क्लिनिक, हार्ट क्लिनिक, कनेक्टिव टिश्यू क्लीनिक, शुगर एंड थायराइड क्लीनिक, मल्टी सिस्टम डिजीज, ए एन सी सर्विस, पीडियाट्रिक नेफ्रोलॉजी, पेडियाट्रिक अस्थमा, डिडिक्शन सर्विसेस, आईसीटीसी सर्विसेज आदि।

सारे विभाग अभी शुरू नहीं हो पाए हैं जिसमें न्यूरोलॉजी, नेफ्रोलॉजी, गैस्ट्रोलॉजी जैसे विभाग हैं जिसमें डॉक्टर अभी ज्वाइन नहीं कर पाए हैं। कार्डियोलॉजी में डॉक्टर ने ज्वाइन कर लिया है। हमारे यहां 300 बेड की सुविधा शुरू हो चुकी है हमारे पास 14 अत्याधुनिक ऑपरेशन थिएटर है जो आधुनिक मशीनों से युक्त हैं।

एम्स ओपीडी में अभी तक कितने मरीजों का इलाज हो चुका है?

सितंबर से दिसंबर तक की बात करें तो करीब 7.5 लाख मरीजों का इलाज हो चुका है।

पहले बहुत भीड़ हुआ करती थी अब नहीं दिखाई देती है!

लोग ऑनलाइन रजिस्टर करते हैं और उसमें उपलब्ध समय के अनुसार उनको अपॉइंटमेंट मिलता है जिससे पेशेंट उस समय पर आकर अपना इलाज कराते हैं जिससे भीड़ अब काफी मैनेज हो गई है। हालांकि कुछ लोग बिना रजिस्टर किए भी आते हैं जिनमें कम पढ़े लिखे लोग या फिर अनजान लोग जिनको पता नहीं है कि ऑनलाइन रजिस्टर की व्यवस्था है लेकिन ज्यादातर लोग ऑनलाइन रजिस्टर करके ही आते हैं।

अभी तक कितने वेड और वेंटिलेटर की सुविधा उपलब्ध है?

कुल 750 वेड की सुविधा है लेकिन अभी पूरे शुरू नहीं हो पाए हैं फिलहाल 300 वेड की सुविधा हमने शुरू कर दी है सबसे बड़ी बात है कि 99% वेड पर ऑक्सीजन की सुविधा है 40 वेंटिलेटर रेडी है और केयर इंडिया के द्वारा जो वेंटिलेटर आए हैं उसको भी जरूरत पर शुरू किया जाएगा। हम पूरी तरह से तैयार हैं।

दवाइयों के लिए क्या व्यवस्था है अमृत फार्मेसी के बारे में बताएं।

दवाइयां अमृत फार्मेसी के तहत कम दाम में डिस्काउंट के साथ हमारे एम्स परिसर में ही उपलब्ध है जिसके लिए भविष्य में एक अलग इमारत बनाने की भी तैयारी हो चुकी है जिसका निर्माण संभवत जनवरी से शुरू होगा। क्योंकि 750 जब बेड शुरू हो जाएंगे तो 5 – 6 अलग-अलग दवाई कि लाइन होगी।

इमरजेंसी के लिए क्या सुविधा है?

इमरजेंसी के लिए व्यवस्था कर दी गई है जिसमें आधुनिक तकनीक के साथ पूरी तैयारी है।

करोना से लड़ने के लिए और नए वेरिएंट ओमिक्रान के लिए क्या व्यवस्था है?

करोना के लिए हम पहले से ही तैयार हैं पिछले साल हमको ऑक्सीजन बाहर से मंगाना पड़ता था। अभी हमारे पास ऑक्सीजन प्लांट की व्यवस्था है। कैंपस में ऑक्सीजन प्लांट होने के कारण हमें ऑक्सीजन के लिए चिंता करने की जरूरत नहीं है। वहीं हमारे कैंपस में जांच की पूरी व्यवस्था है। चाहे एंटीजन हो या फिर आर्टि पी सी आर, हम करोना और नए वेरिएंट ओमिक्रोन के लिए भी तैयार है। जिसके लिए पहले से ही हमने अपने टीम को पूरी ट्रेनिंग देकर तैयारी कर रखी है। जिसमें मरीज को एडमिट करने से लेकर उसके इलाज और चेकिंग की पूरी व्यवस्था है ताकि किसी तरह की कोई असुविधा ना हो।

एम्स के सारे विभाग जितने जल्दी शुरू हो जाए आम जनमानस के लिए बहुत जरूरी है। बहरहाल इसके सारे विभाग जल्दी से जल्दी शुरू होने की कोशिश जारी है जो काबिले तारीफ है।

गोरखपुर प्रतिनिधि : संदीप उपाध्याय

संबंधित पोस्ट

वैज्ञानिकों की चेतावनी- भारत के लिए पहले से ज्‍यादा खतरनाक हो सकता है कोरोना का नया स्‍ट्रेन

Hindustanprahari

कोरोना वैक्सीनः उत्पादन शुरू, आप तक कब पहुंचेगी वैक्सीन, पढ़ें पूरी खबर

राज्यपाल को दृष्टिहीनों ने रक्षा सूत्र बांधकर मनाया रक्षाबंधन

Hindustanprahari

मच्छरों के रोकथाम के लिए विष्णु विहार कॉलोनी (कोडैया) में हुआ छिड़काव

Hindustanprahari

खेसारीलाल यादव और ज़ोया खान स्टारर गाना ‘दूगो बीयर मांगा के पी लेहब’ कल होगा रिलीज

Hindustanprahari

शौर्य चक्र पैरा कमांडो मधुसूदन सुर्वे पर बायोपिक बनाएंगे नीरज पाठक!

Hindustanprahari