ब्रेकिंग न्यूज़
साहित्य

‘आशा के पल’ कार्यक्रम का आयोजन सम्पन्न

काव्य सृजन महिला  मंच के तत्वावधान में का.सृ.म.मं. की अन्तर्राष्ट्रीय  अध्यक्षा और ख्वाबगाह की अध्यक्षा अनुपम रमेश किंगर द्वारा मंत्रालय द्वारा निर्धारित दिशा-निर्देशों का पालन करते हुए गत शुक्रवार 19 नवंबर को एक काव्य गोष्ठी का आयोजन किया गया जिसमें बहरीन से कवि मनीषियों ने भाग लिए। यह अपने प्रकार की पहली काव्य गोष्ठी थी जो आभासी मंच पर न होकर वास्तविकता के धरातल पर आयोजित की गई थी। आशा के पल  नामक इस काव्य संध्या में संक्रमणकाल से धीमे धीमे निकल रहे विश्व को सकारात्मकता का संदेश देते इस समारोह में सभी ने आशावाद से ओत प्रोत कविताओं का पाठ किया।

इस कार्यक्रम की संकल्पना, संयोजन एवं प्रस्तुतकर्ता
अनुपम रमेश किगर ने किया, जो काव्य सृजन महिला मंच की अंतराष्ट्रीय अध्यक्षा हैं। कार्यक्रम का शुभारंभ सरस्वती वंदना से हुुुआ।  कवियों ने दो सत्र में काव्य पाठ किया।
श्रीमान पं.शिवप्रकाश जौनपुरी ,संस्थापक अध्यक्ष काव्य सृजन मंच एवं संस्थापक काव्य सृजन महिला मंच व महिला मंच भारत की अध्यक्षा आर जे आरती सैया हिरांसी जी के सानिध्य में होनेवाले इस कार्यक्रम में भाग लेने वाले कवि कवयित्री निवेदिता रॉय, बहरीन पल्लवी जैन बहरीन, शाहनवाज़ खान बहरीन, कवयित्री गरिमा सूदन बहरीन, एवं संचालिका अनुपम रमेश किंगर ने अपने काव्य पाठ से आनंदित किया।

अंत में काव्यसृजन महिला मंच की अन्तर्राष्ट्रीय अध्यक्षा अनुपम किंगर ने सभी का आभार व्यक्त करते हुए अभिनंदन भी किया। आगे भी सहयोग स्नेह बनाये रखने का निवेदन करते हुए आयोजन के समापन की घोषणा की।

संबंधित पोस्ट

मार्कण्डेय त्रिपाठी की पंक्ति “उपनयन संस्कार”

Hindustanprahari

 आपने काजरोलकर का नाम नहीं सुना 

Hindustanprahari

मार्कण्डेय त्रिपाठी की पंक्ति “सीता जी की व्यथा”

Hindustanprahari

मातृ नव दुर्गा

Hindustanprahari

आन मिलो अब श्याम

Hindustanprahari

 जीवन में योग का महत्व 

Hindustanprahari