ब्रेकिंग न्यूज़
ट्रेंड/फैशन

अवार्ड पाकर भी ट्रोल हुए महाभारत के युधिष्ठिर

 

अभिनेता गजेंद्र चौहान एक बार फिर चर्चा में हैं और उसकी वजह है चौहान को मिला एक पुरस्कार जिसे लेकर सोशल मीडिया पर उन्हें ट्रोल किया जा रहा है.

गजेंद्र चौहान ने पुरस्कार मिलने की जानकारी ख़ुद दी थी. चौहान 1990 के दशक में टीवी पर प्रसारित हुए सीरियल ‘महाभारत’ में युधिष्ठिर की भूमिका निभाने के लिए पहचाने जाते हैं. नरेंद्र मोदी सरकार के दौरान उन्हें पुणे स्थित भारतीय फिल्म और टेलीविजन संस्थान (एफटीआईआई) का चेयरमैन बनाया गया था. छात्रों के विरोध की वजह से उनकी नियुक्ति विवादों में रही थी.

ताज़ा मामले में चौहान ने ट्विटर पर पुरस्कार के साथ अपनी तस्वीर शेयर की और लिखा,”सम्मानित हूं- मुझे फ़िल्म उद्योग में मेरे काम के लिए आज मुंबई में लीजेंड दादा साहेब फाल्के पुरस्कार 2021 दिया गया है. मेरे शुभचिंतकों का शुक्रिया.”

फ़िल्म उद्योग में योगदान के लिए ‘दादा साहेब फाल्के’ के नाम पर एक पुरस्कार केंद्र सरकार की ओर से दिया जाता है. इसे भारतीय फ़िल्म उद्योग का सबसे प्रतिष्ठित पुरस्कार माना जाता है. राष्ट्रीय फ़िल्म पुरस्कार के साथ सरकार की ओर से इस पुरस्कार के लिए चुने गए कलाकार के नाम का एलान होता है और पुरस्कार राष्ट्रपति देते हैं.

गजेंद्र चौहान को जो पुरस्कार हासिल हुआ उनका नाम इस प्रतिष्ठित पुरस्कार से मिलता जुलता है. इसी को लेकर ट्विटर यूज़र उन्हें ट्रोल करने लगे.

कुछ यूज़र ने नए सूचना प्रसारण मंत्री अनुराग ठाकुर को टैग किया और पूछा कि ‘एक प्रतिष्ठित पुरस्कार के नाम का ऐसे इस्तेमाल कैसे हो सकता है?’

कुछ यूज़र ऐसे भी थे जिन्होंने गजेंद्र चौहान की तारीफ की और और उन्हें पुरस्कार मिलने की बधाई दी.

हालांकि, तारीफ करने वाले सीमित संख्या में ही थे. प्रतिक्रियाओं का असर चौहान पर भी दिखा और उन्होंने बाद में एक और ट्वीट किया जिसमें प्रशंसकों और आलोचकों दोनों को शुक्रिया कहा.

संबंधित पोस्ट

ग्लैमर की दुनिया में ऊंची उड़ान भरना चाहती हैं मॉडल सोनल हजारे

Hindustanprahari

‘एवरग्रीन ब्यूटी कॉन्टेस्ट’ की विजेता बनी दीप्ती जोशी

Hindustanprahari

यूनिफाइएड ब्रांज वीर्टिसो लिमिटेड के संस्थापक और अध्यक्ष डॉ जी डी सिंह ने लॉन्च किया ‘पैशन विस्टा’

Hindustanprahari