ब्रेकिंग न्यूज़
साहित्य

 अन्तर्राष्ट्रीय योग दिवस पर काव्यसृजन के पटल पर योग चर्चा 

 

अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस पर ‘काव्य सृजन’ द्वारा गूगल मीट पर आयोजित योग संध्या में भारत के विभिन्न भागों से जुड़े  लोगों ने पं.श्रीधर मिश्र द्वारा योग कैसे किया जाय , कितने समय किया जाय , इसकी विस्तृत जानकारी प्राप्त की योग गुरू पं.श्रीधर मिश्र ने अष्टाँग योग के बारे में विस्तार से बताया, ध्यान – योगासन आदि करने से उसके फायदे गिनाये , गलत तरीके से यौगिक क्रियाऐं करने पर उसके नुकसान भी बताये और कहा कि बिना उचित जानकारी के योग फायदे के बदले नुकसान पहुँचाता है, इसलिए योग भी सजगता के साथ नियमानुसार करने से ही फायदा पहुँचाता है।

इस आयोजन को लोगों ने अपने घरों में बैठ कर देखा और कुछ लोगों ने तो साथ – साथ में योग – ध्यान भी किया।

ध्यान तथा योग करने वालो में सर्वश्री पं.शिवप्रकाश जौनपुरी, सौरभ दत्ता “जयंत” पालघर( नालासोपारा ), डॉ श्रीहरि वाणी (कानपुर), अवधेश विश्वकर्मा “नमन” कौसाम्बी (उत्तर प्रदेश), आनंद पाण्डेय “केवल”  (मुम्बई ), सौरभ पाण्डेय, स्नेहा पाण्डेय, नगीना पाण्डेय (नालासोपारा) उपस्थित रह कर योग के गुर सीखे। डॉ भावना दीक्षित (मध्यप्रदेश ),  मनीन्द्र  सरकार  (नागपुर ), थाने से प्रज्ञा राय व श्रीराम शर्मा भी जुड़कर पं. श्रीधर मिश्र द्वारा बताये गये योग और ध्यान योग को सुना समझा और करने का प्रयास भी किया।

अंत में संस्था के प्रवक्ता आनंद पाण्डेय “केवल” और अवधेश विश्वकर्मा नमन ने अपने कंठ योग तथा सुगम संगीत द्वारा सबको आनंदित कर दिया और संस्था की तरफ से सभी का आभार भी प्रकट किया।

संबंधित पोस्ट

‘आशा के पल’ कार्यक्रम का आयोजन सम्पन्न

Hindustanprahari

शिक्षक दिवस पर “मार्कण्डेय त्रिपाठी” की पंक्ति

Hindustanprahari

अलका पांडेय लिखित ‘गालियां’ लघुकथा संग्रह का ऑनलाइन लोकार्पण और परिचर्चा

Hindustanprahari

मार्कण्डेय त्रिपाठी की पंक्ति “रक्तदान की महत्ता”

Hindustanprahari

मार्कण्डेय त्रिपाठी की पंक्ति “हिन्दुत्व”

Hindustanprahari

अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस पर अग्निशिखा मंच द्वारा सम्मान समारोह कार्यक्रम सम्पन्न हुआ

Hindustanprahari